छत्तीसगढ़

हसदेव जनयात्रा मेरा प्रकल्प और संकल्प : डॉ. महंत

रायपुर: छत्तीसगढ़ कांग्रेस चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष व पूर्व केन्द्रीय मंत्री डॉ. चरणदास महंत की हसदेव जनयात्रा आज नौवें दिन चांपा-सिवनी से प्रारंभ होकर सक्ती विधानसभा क्षेत्र अंतर्गत दर्जनों गांवों में पहुंची। डॉ. महंत के गृहग्राम के आसपास यात्रा में लोगों का उत्साह देखते बना। ग्रामीणों और किसानों ने जगह-जगह रोक कर व पैदल चल कर समर्थन देने के साथ-साथ बाजे-गाजे से आतिशी स्वागत किया। गृहग्राम के समीप हसदेव जन यात्रा में डॉ. महंत भी अलग अंदाज में नजर आये।

जांजगीर-चांपा जिले के सिवनी चैक से नौवें दिन प्रारंभ हसदेव जन यात्रा सक्ती विधानसभा क्षेत्र के ग्राम सुन्दरेली, सोनगुड़ा, कुदरीटार, बुढनपुर, धुईचुआं, जामचुआं आदि ग्रामों में पहुंची। सभाओं को संबोधित करते हुए डॉ. चरणदास महंत ने कहा कि कोरिया जिले से लेकर कोरबा व जिला जांजगीर-चंपा क्षेत्र के सैकड़ों गांवों के किसानों को सिंचित करने वाली जीवनदायिनी हसदेव नदी को संरक्षित करने हम सब की सामूहिक जवाबदारी है।

हसदेव हमारी पहचान है। 14 फरवरी से 24 फरवरी तक चल रही हसदेव जन यात्रा मेरा प्रकल्प के साथ-साथ संकल्प भी है। डॉ. महंत ने सक्ती विधानसभा क्षेत्र के ग्रामीणों और किसानों के बीच अपनी बात रखते हुए कहा कि कांग्रेस का संकल्प है कि इस क्षेत्र को सही नेतृत्व के साथ एक मजबूत ढांचा मिले। क्षेत्र में आपसी भाईचारा और प्रेम सबके बीच बना रहे इस दिशा में वे निरंतर प्रयासरत रहेंगे। डॉ. महंत ने इस क्षेत्र में बसे लोगों से अपने पारिवारिक नातों का भी जिक्र किया।जन यात्रा में डॉ. महंत के अलावा, पूर्व मंत्री नोबेल वर्मा, पूर्व विधायक सरोज मनहरण राठौर, गोपाल थवाईत, जिला पंचायत अध्यक्ष नन्दकिशोर हरवंश, उपाध्यक्ष अजीत साहू, जिला कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष श्रीमती मंजू सिंह, जिला महिला कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष श्रीमती देशराज हरवंश, नगर पालिका सक्ती अध्यक्ष श्यामसुंदर अग्रवाल, नगर पालिका चांपा अध्यक्ष राजेश अग्रवाल, जिला युकां अध्यक्ष प्रिंस शर्मा, चूड़ामणी राठौर, मनीष राठौर, गिरधर जायसवाल, महबूब खान, अमित राठौर सहित बिलासपुर के इंका नेता आशीष सिंह ठाकुर, राजेन्द्र शुक्ला, विजय पाण्डेय, अर्जुन तिवारी, अजीत दास महंत सहित बड़ी संख्या में कांग्रेसजन और ग्रामवासी शामिल हुए।

हसदेव बचाबो के नारों से गंूजा

जनयात्रा में उपस्थित ग्रामीणों और किसानों सहित कांग्रेसजनों ने हसदेव बचाबो के नारे बुलंद किए। रास्ते भर इस नारे से क्षेत्र गूंजते रहे। डॉ. महंत का गृहग्राम सारागांव से लगा क्षेत्र होने के कारण यहां के लोगों में जन यात्रा के प्रति खासा उत्साह देखने को मिला। इस आयोजन की सराहना वरिष्ठ ग्रामीणों ने करते हुए कहा कि सरकार को हसदेव नदी को प्रदूषित होने से बचाने और इसका पानी उद्योगों को देने से बचना चाहिए।

किसानों के पास कृषि के लिए पानी नहीं रह गया है, जिसके कारण मानसूनी बारिश पर निर्भर होने की मजबूरी बन गई है। कृषि के मौसम में पर्याप्त जल मिले तो छत्तीसगढ़ फिर धान का कटोरा बन जाएगा। यदि सरकार इसी तरह उद्योगों को कृषि भूमि और जल देती रही तो वह दिन दूर नहीं जब धान के बजाय कटोरा रह जाएगा।

Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *