छत्तीसगढ़

हाथी मित्र दल के कर्मचारियों ने 27 नग प्रतिबंधित प्रजाति से लोड एक ट्रेक्टर को पकड़ा

दो नग सेमर व 25 नग अर्जुन प्रजाति का गोला बरामद

रायगढ़: डीएफओ मनोज पांडे के द्वारा अवैध कटाई रोकने के लिए सभी रेंज के अधिकारी व कर्मचारियों को निर्देशित किया गया है। ऐसे में वन अमला लगातार अवैध कटाई पर निगरानी भी कर रही है। जहां बीती रात एक लगभग तीन बजे ट्रेक्टर में लोड 27 नग सेमर व अर्जुन प्रजाति के गोले को बुनगा से रायगढ़ लाया जा रहा था। इसी दौरान हाथी मित्र दल की टीम गश्त में थी।

प्रतिबंधित प्रजाति के गोले का परिवहन

तब पटेलपाली के पास उन्होंने देखा कि ट्रेक्टर में लोड प्रतिबंधित प्रजाति के गोले का परिवहन किया जा रहा है। ऐसे में ट्रेक्टर को रोका गया और चालक से उसका कागजात मांगा गया, पर उनके पास कोई कागजात नहीं थे। ऐसे में प्रतिबंधित प्रजाति का अवैध रूप से किए जा रहे परिवहन को देखते हुए ट्रेक्टर को जब्त कर बेलादुला डिपो लाया गया।

पूछताछ में उन्होंने अपना नाम अभिषेक गुप्ता पिता खीरलाल गुप्ता व लीलाराम गुप्ता पिता घनश्याम गुप्ता बुनगा का रहने वाला बताया। उन्होंने बताया कि कृषि भूमि से पेड़ को काटा गया था और उसे रायगढ़ लाया जा रहा था। इसमें दो नग सेमर व 25 नग अर्जुन प्रजाति का गोला है।

फिलहाल मामले में अपराध कायम कर मामले को विवेचना में लिया है। उक्त कार्रवाई में विजय भगत, रेंगालपाली क्षेत्र के वनपाल शरद कुमार बेक, संदीप नामदेव, प्रदीप इजारदार, वाहन चालक घुरउ का योगदान रहा।

प्रशासनिक अधिकारी एक ओर पर्यावरण को बचाए रखने के लिए पौध रोपण पर जोर दे रहे हैं। जगह पौध रोपण भी कराया जा रहा है, तो कई जगह राजस्व क्षेत्रों में पूरी तरह से नियमों का उल्लघंन कर अवैध कटाई किया जा रहा है।

जिस पर क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों का भी नजर नहीं जा रहा है। बताया जा रहा है कि राजस्व क्षेत्रों में अवैध कटाई का प्रकरण रोकने के लिए क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों का संबंधित अधिकारियों को गंभीरता से ध्यान देना चाहिए।

बीती रात हाथी मित्र दल के कर्मचारी गश्त कर रहे थे तो उन्होंने 27 नग प्रतिबंधित प्रजाति के गोले से लोड ट्रेक्टर को रोका। चालक के पास कोई कागजात नहीं था। ऐसे में ट्रेक्टर को बेलादुला डिपो लाया गया और आगे की कार्रवाई की जा रही है।
राजेश्वर मिश्रा
रेंजर, रायगढ़ वन परिक्षेत्र

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button