इंदौर में हैवानियत, दरिंदे ने 4 साल की मासूम और दुधमुंही बच्ची के साथ किया अनाचार

बच्चियों के लिए कितना सुरक्षित है, एक बार फिर इस गंदी वारदात ने ये बता दिया

इंदौर: इंदौर में दरिंदों की हैवानियत ने छोटी- छोटी दो बहनों की भी नहीं बख्शा। शिवराज सिंह के इस प्रदेश में अब मासूम भी असुरक्षित हो चुकी है।

जिन्होंने अभी ठीक से बोलना भी नहीं सीखा था। दोनों बच्चियां सगी बहनें हैं, जिनमें से एक बच्ची की उम्र पांच साल तो दूसरी की महज एक साल है।

मध्य प्रदेश बच्चियों के लिए कितना सुरक्षित है, एक बार फिर इस गंदी वारदात ने ये बता दिया है। घटना शुक्रवार-शनिवार की दरमियानी रात करीब दो बजे के बीच हुई।

जेल रोड स्थित नॉवेल्टी मार्केट के पास एक निर्माणाधीन मल्टी है, जिसकी देखरेख सागर निवासी एक परिवार कर रहा है।

बिल्डिंग में ही अपने माता-पिता के साथ उनकी दो बच्चियां भी रहती हैं, जिनकी उम्र एक और पांच साल है।

परिवार हर रोज की तरह बेफिक्र होकर सो रहा था। रात में परिवार के एक सदस्य की नींद खुली तो देखा दोनों बच्चियां अपने बिस्तर से गायब हैं।

इतने में बड़ी बेटी रोती हुई उनके पास आई और पूरी वारदात के बारे में बताया। वहीं, एक साल की मासूम लहूलुहान हालत में घर से बाहर मिली।

बच्ची की हालत देख परिजन तत्काल उसे एमवाय अस्पताल लेकर पहुंचे और पुलिस को सूचना दी।

मेडिकल जांच में पता चला है कि दरिंदगी के कारण एक साल की बच्ची की हालत गंभीर है, जबकि पांच साल की उसकी बड़ी बहन के साथ भी दुष्कर्म की कोशिश की गई।

फिलहाल, पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और घटनास्थल के सीसीटीवी फुटेज को कब्जे में लेकर दरिंदों की तलाश शुरू कर दी है।

मामा शिवराज प्रदेश की अपनी बहनों और भांजियों को सुरक्षा दिए जाने का दावा करते हैं, लेकिन जमीनी हकीकत तो कुछ और ही है। सवाल ये उठता है कि मामा जी के ये दावे हकीकत में कब तब्दील होंगे।

Back to top button