छत्तीसगढ़राजनीति

स्वास्थ्य मंत्री का प्लाज़्मा थेरपी पर बयान ग़लत- अमित अजीत जोगी

ब्यूरो चीफ : विपुल मिश्रा

रायपुर. JCCJ अध्यक्ष अमित अजीत जोगी ने ट्वीट करते हुए कहा है कि वे छत्तीसगढ़ शासन के स्वास्थ्य मंत्री श्री टी॰एस॰सिंह देव का बयान कि ICMR ने प्लाज़्मा थेरपी की अनुमति नहीं दी है समझ से परे है।कोरोनाकाल के प्रारम्भिक दौर में मध्यम रूप से ग्रसित COVID19 मरीज़ों में किया गया शोध अंग्रेज़ी भाषा में प्रकाशित हुआ है जिसकी छत्तीसगढ़ में उनसे बेहतर किसी दूसरे को जानकारी नहीं है।

अमित जोगी ने जानकारी दी कि ICMR के इस शोध के अनुसार प्लाज़्मा थेरपी में और सामान्य उपचार वाले मरीज़ों में रिकवरी रेट (85-86%) में कोई विशेष अंतर नहीं है।शोध में उल्टा ये कहा गया है कि “प्लाज्मा थेरेपी की कोई प्रतिकूल प्रतिक्रिया नहीं है और इससे मरीज़ों को थकान और सांस की तकलीफ को कम करने में राहत मिलने के प्रमाण मिले हैं “(there is no adverse reaction of plasma therapy and it did provide certain mild reliefs.CPT helped in alleviating fatigue and shortness of breath)।

अमित जोगी ने कहा कि छत्तीसगढ़ के #corona मरीज़ों को इस उपचार से वंचित रखना बिल्कुल भी तर्कसंगत नहीं है विशेषकर जब प्रदेश के सबसे VVIP मरीज़ मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल जी के पिता जी का भी प्लाज़्मा से ही इलाज चल रहा है। जोगी ने कहा कि मैं उम्मीद करता हूँ कि स्वास्थ्य मंत्री जी #plasmatherapy पर अपना रुख़ बदलेंगे और इसे छत्तीसगढ़ के सभी उपचार केंद्रों में लागू करने का तत्काल आदेश जारी करने की कृपा करेंगे।क्योंकि उनके एक भी ग़ैर-जिम्मेदारीपूर्ण बयान से हज़ारों की जानों को ख़तरा पड़ सकता है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button