राज्य

चमकी बुखार से बच्चों की मौत को लेकर याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज

पिछली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने नोटिस जारी कर मांगा था जवाब

पटना: चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ आज बिहार में चमकी बुखार से बच्चों की मौत को लेकर दाखिल जनहित याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई करेगी. पिछली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र, बिहार और उत्तर प्रदेश सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा था.

दरअसल, याचिका में बिहार सरकार पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए केंद्र सरकार को विशेषज्ञों की एक मेडिकल बोर्ड गठित कर उसे तत्काल बिहार के मुजफ्फरपुर व अन्य प्रभावित क्षेत्रों में भेजने का निर्देश देने की मांग की थी.

इसके अलावा केंद्र और बिहार सरकार को 500 आइसीयू ऐसे 100 मोबाइल आइसीयू भेजने का निर्देश देने को भी कहा गया था जो कि विशेषज्ञों से लैस हों जिससे दूर दराज के इलाकों में प्रभावितों को इलाज मुहैया कराया जा सके.

सुप्रीम कोर्ट के नोटिस के जवाब में बिहार सरकार ने हलफनामा दाखिल कर कहा था कि मौसम में बदलाव और राज्य सरकार के प्रयास से बीमारी में काफी कमी आई है.राज्य सरकार बीमारी की वजह ढूंढने और दूरगामी समाधान करने में लगी है. खुद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मसले को गंभीरता के साथ देख रहे हैं.

हालांकि, बिहार सरकार ने माना था कि राज्य स्वास्थ्य विभाग में लोगों की बहुत कमी है. हलफनामे के मुताबिक स्वास्थ्य विभाग में 47% डॉक्टरों की कमी है, नर्स के 71%, लैब टेक्नीशियन के 62% और फार्मासिस्ट के 48% पद खाली हैं. राज्य सरकार ने इस कमी को दूर करने के लिए गंभीर कोशिश की बात कही है.

उधर, केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर किया था.केंद्र सरकार ने कहा था कि स्वास्थ्य राज्य सरकार का विषय है, हालांकि केंद्र सरकार ने AES सिंड्रोम से निपटने के लिए राज्य सरकार को सहयोग दिया.

Tags
Back to top button
%d bloggers like this: