छत्तीसगढ़राज्यराष्ट्रीय

छत्तीसगढ़ के 5 संभागों में भारी बारिश की आंशका, रेड अलर्ट जारी

दिल्ली में एक दिन की भारी बारिश से आंकड़े सामान्य से ऊपर

नई दिल्ली: मौसम विभाग के अनुसार आगामी 24 घंटों में इन संभागों में गरज-चमक और तेज बारिश के साथ आकाशीय बिजली भी गिर सकती है. छत्तीसगढ़ के 5 संभागों में मौसम ने भारी बारिश की आंशका को देखते हुए रेड अलर्ट जारी किया है.

मानसून की व्यापक सक्रियता आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, दक्षिणी छत्तीसगढ़ और ओडिशा के कुछ हिस्सों में मध्यम से भारी बारिश के साथ कुछ स्थानों पर अति भारी बारिश हो सकती है. अगले दो-तीन दिनों तक बारिश के आसार हैं.

मौसम विभाग ने गुजरात में अगले तीन दिन भारी बारिश की संभावना जताई है. दिल्ली में एक दिन की भारी बारिश से आंकड़े सामान्य से ऊपर पहुंच गए हैं. गुजरात, कोंकण गोवा, दक्षिण-पूर्वी राजस्थान, अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड, मणिपुर और पूर्वी मध्य प्रदेश के अधिकांश हिस्सों पर मॉनसून सक्रिय है.

राज्य के ज़्यादातर जिलों में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ हिस्सों में भारी बारिश की उम्मीद है. जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश के पश्चिमी और मध्य भागों, शेष मध्य प्रदेश, आंतरिक महाराष्ट्र, तटीय कर्नाटक, हरियाणा के कुछ हिस्सों, पश्चिमी राजस्थान और उत्तरी आंतरिक कर्नाटक में भी कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है.

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली और एनसीआर और दक्षिण भारत में मानसून कमजोर रहेगा. हालांकि इन भागों में कुछ स्थानों पर हल्की बारिश हो सकती है. मुंबई, ठाणे, रायगढ़, पालघर में अगले 24 से 48 घंटे तक जोरदार बारिश रहने वाली है. मौसम विभाग ने बारिश को लेकर ऑरेंज अलर्ट जारी किया है.

पानी से सराबोर हुआ गुजरात

गुजरात में शनिवार को सुबह 6 बजे से शाम 4 बजे तक 166 तहसील में बारिश हुई है. दक्षिण गुजरात, सौराष्ट और उत्तर गुजरात के कई जिलोमें भारी बारिश हुई है. दक्षिण गुजरात की बात की जाए तो बारिश की वजह से उकाई डैम के दरवाजे खोलने के बाद सूरत के कुछ इलाकों में जलभराव की स्थिति खड़ी हो गई है. हालांकि अभी सूरत में बारिश बंद है.

पिछले दो दिनों में हुई बारिश के कारण मीठी खाड़ी समेत अन्य खाडिओ का पानी अब लोगों के घरों में घुस रहा है. कमरूनगर इलाके में परवत गांव की खाड़ी के पानी भर जाने कि वजह से कम से कम 200 लोगों को रेस्क्यू किया गया. खाड़ी इलाको में रह रहे लोग फंसे होने के कारण प्रशासन लोगो के लिए खाने ओर दवाई पहुंचाने का काम कर रही है.

लोगों के घरों में घुस रहा है पानी

सूरत जिले के ग्रामीण इलाको में भी भारी बारिश के कारण आदर्शनगर, रसुलाबाद, साफल्या, गायत्री, अयोध्या नगरी, सायण मेईन रोड ओर अन्य इलाको में जल भराव हो गया था तो दूसरी ओर कीम नदी में भारी बारिश के बाद 20 गांवो को अलर्ट पर रखा गया है. सूरत के अलावा भारी बारिश के कारण वडोदरा की विश्वामित्री नदी के जलस्तर में बढ़ोत्तरी ओर वडोदरा शहर को पानी दे रहा आजवा सरोवर के उपरी इलाकों में भारी बारिश के कारण वडोदरा के नीचे इलाको में जल भराव की स्थिति हो गई है. अभी भी विश्वामित्री नदी का जलस्तर बढ़ रहा है. आजवा डैम की सपाटी में बढ़ोतरी होने के कारण विश्वामित्र नदी में पानी छोड़ा जा रहा है जिसके कारण NDRF और फायर की टीमें अलर्ट पर हैं.

सबसे ज्यादा बारिश गिर सोमनाथ जिले में हुई

सौराष्ट्र में भी शनिवार को बारिश हुई है. सबसे ज्यादा बारिश गिर सोमनाथ जिले में हुई है. गिर सोमनाथ के उना में बारिश के कारन रावल डैम के 2 दरवाजे खोले गये. रावल डेम ओवर फ्लो होने के कारन मछुद्री नदी का जल स्तर बढ गया है. सुरेन्द्रनगर जिल्ले का धोलीधजा डैम भी ओवर फ्लो हो गया है. आने वाले दिनो मे भी भारी बारिश के कारण राज्य में NDRF की 13 टीमो को एलर्ट की गई है. आज नवसारी, वलसाड, द्वारका, दमण, और दादरानगर हवेली में बारिश की संभावना जताई गई है. 17 अगस्त को जामनगर, कच्छ,दमण, दादरानगर हवेली इलाको मे बारिश हो सकती है. 18 अगस्त को बनासकांठा, पाटन, साबरकांठा, नर्मदा, भरूच ,सुरत, डांग, नवसारी, वलसाड, तापी, जामनगर, मोरबी, द्वारका, कच्छ, दमण में भारी बारिश की संभावना व्यक्त की गई है.

दिल्ली में अगले दो-तीन दिनों तक बारिश के आसार

दिल्ली में एक दिन की भारी बारिश से आंकड़े सामान्य से ऊपर पहुंच गए हैं. अगले दो-तीन दिनों तक बारिश के आसार हैं. दिल्ली में 12 अगस्त की रात से 13 अगस्त की सुबह के बीच जिस तरह की मूसलाधार वर्षा रिकॉर्ड की गई उससे राजधानी के तमाम इलाके जलमग्न हो गए, सड़कें डूब गई और निचले इलाकों में पानी भर गया. दिल्ली में मानसून का प्रदर्शन इससे पहले तक बहुत अच्छा नहीं रहा है. लंबे इंतजार के बाद यह बारिश हुई. उसके बाद फिर से मॉनसून की हलचल कम हो गई है.

12 अगस्त की रात में हुई इस बारिश से पहले दिल्ली का उत्तर पश्चिमी हिस्सा सबसे कम बारिश वाला क्षेत्र था, जहां बारिश में कमी 70% थी. इसके बाद 66 फ़ीसदी की कमी के साथ मध्य दिल्ली दूसरे स्थान पर था. दिल्ली और एनसीआर में आने वाले दिनों में भी मानसून के सक्रिय रहने की संभावना है जिससे राजधानी में कुछ स्थानों पर रुक-रुक कर वर्षा की गतिविधियां होती रहेंगी.

अगले 2-3 दिनों के दौरान मध्यम बारिश की संभावना है, उसके बाद बारिश में कुछ कमी आएगी और हल्की वर्षा की गतिविधियां देखने को मिलेंगी. आने वाले दिनों में बादल छाए रहने, आर्द्र हवाएं चलने और कुछ स्थानों पर वर्षा होने की संभावना के चलते दिन में तापमान सामान्य के आसपास बना रहेगा.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button