ऑटोमोबाइलछत्तीसगढ़

आटो पार्ट्स पर भारी लूट, प्रिंट कीमत से अधिक दामों पर बेचे जा रहे हैं ऑटो पार्ट्स

प्रावधान यह भी है कि प्रिंट कीमत से अधिक पर कोई भी व्यापारी सामान नहीं बेंच सकता!

नगरी। शासन-प्रशासन द्वारा अनेकों बार क्रय-विक्रय नियमावली पर समय-समय पर दिशा निर्देश जारी होते रहते हैं कि ग्राहक को सही मूल्य पर सभी सामान उपलब्ध हो तथा ग्राहक संतुष्ट हों। प्रावधान यह भी है कि प्रिंट कीमत से अधिक पर कोई भी व्यापारी सामान नहीं बेंच सकता! क्योंकि प्रिंट कीमत अधिकतम होता है।

7इन सभी आदेशों-निर्देशों के बावजूद कुछ दुकादार शासकीय नियमों को ताक में रखते हुए अपने द्वारा बेचे जा रहे सामानो पर मनमानी कीमत लगा रहे हैं एवं उनका कारोबार धड़ल्ले से चल रहा है। नगरी सिहावा रोड में स्थित एक आटो पार्ट्स दुकानदार की शिकायत करते हुए ग्राम पंचायत गोरेगांव निवासी लेख राम साहू ने आरोप लगाया कि उनकी बोलेरो पिक अप का क्लच खराब हो गया ।

उसे बदले याने नया क्लच प्लेट व क्लच डिस्क का सेट लगाना था। रिपेरिंग सेंटर के पास सामान न होने की दशा में सिहावा रोड नगरी में स्थित एक आटो पार्ट्स से क्लच सेट खरीदा। जिसका कीमत ₹5,450/- लगाया गया। खरीदते समय जल्द बाजी में पैक में प्रिंट कीमत को नहीं देख पाया क्योंकि गाडी छोडकर उन्हें खेती कार्य देखने खेत भी जाना था।

सो गाडी रिपेयरिंग सेंटर में छोडकर खेत चला गया। जब क्लच सेट पिक अप में फिट हो गया तब अपनी गाडी ले जाते समय क्लच सेट के पैक के कार्टून में छपे मूल्य पर नजर पड़ी।

उसमें कीमत प्रिंट था- ₹3,995/- मात्र। बॉक्स में दोनों क्लच प्लेट व क्लच डिस्क दोनों का शामिल होना भी दर्शाया गया है। जैसे ही प्रिंट कीमत का पता चला वैसे ही लेखराज साहू पिक अप मालिक क्लच सेट का कार्टून लेकर तत्काल उस आटो पार्ट्स दुकान गया क्योंकि छपे कीमत से ₹1,455/- अधिक राशि लिया गया था।

आटो पार्ट्स के संचालक से इस बात की शिकायत करने पर उसने साफ कह दिया कि अभी क्लच सेट का कीमत बढ़ गया है एवं उसने जो कीमत लिया है वह सही है।

सरकार को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि ऑटो पार्ट्स भी एक तरह से आवश्यक वस्तुओं की श्रेणी में आती है इनकी कीमतों की कालाबाजारी ना हो इसके लिए आवश्यक कदम उठाया जाना चाहिए।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button