राष्ट्रीय

केदारनाथ, गंगोत्री, बदरीनाथ व यमुनोत्री में हो रही भारी बर्फबारी

पर्वतीक्ष इलाकों में बर्फबारी के बाद मैदानी इलाकों में भी ठंड बढ़ गई

नई दिल्ली: केदारनाथ, गंगोत्री, बदरीनाथ व यमुनोत्री में भारी बर्फबारी हो रही है। केदारनाथ धाम में बर्फबारी के बाद मंदिर परिसर के चारों ओर बर्फ ही बर्फ नज़र आ रही है। पर्वतीक्ष इलाकों में बर्फबारी के बाद मैदानी इलाकों में भी ठंड बढ़ गई है।

इसके चलते केदारनाथ धाम में रविवार के पहुंचे यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के साथ ही उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत भी धाम में फंस गए हैं। हालांकि केदारनाथ धाम के कपाट सुबह नियत समय पर साढ़े आठ बजे बंद कर दिए गए थे।

केदारनाथ धाम में करीब एक फीट, गंगोत्री में आधा फीट तक बर्फ गिर चुकी थी। योगी आदित्यनाथ और त्रिवेंद्र सिंह रावत का बदरीनाथ धाम में कार्यक्रम था, लेकिन बर्फबारी के चलते दोनों फंसे हुए हैं।

मौसम विभाग ने बारिश को लेकर अलर्ट जारी किया है। इसके अलावा ऊंची चोटियों पर हल्का हिमपात भी हो सकता है। मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक पश्चिमी विक्षोभ फिर सक्रिय हो गया है। इससे मैदानी इलाकों पर 16 नवंबर को सीधा प्रभाव पड़ने की संभावना है। जिससे उत्तराखंड के ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फबारी से ठंड में भी इजाफा हो सकता है।

बदरीनाथ धाम में जमकर हिमपात हो रहा है। यहां पहुचें श्रद्धालु भगवान और प्रकृति के अदभुत संयोग के दर्शन कर रहे हैं। बदरीनाथ में एक ओर हजारों फूलों से मंदिर और विराट सिंह द्वार सजा है। वहीं रविवार की रात्रि और सोमवार की सुबह से ही बर्फ की फाहें इस तरह गिर रहीं है लगता है प्रकृति आसमान से श्वेत पुष्प इस धर्म पुरी में बिखेर रही है।

पवित्र विष्णु सहस्त्रनामावली की संगीत से युक्त स्वर लहरियां ध्वनि विस्तार यंत्र से गूंज रहीं है। सैकड़ों श्रद्धालु ” जय बदरी विशाल ” का जय घोष कर रहे हैं। तो कोई श्रीमन नारायण नारायण का जाप कर रहे हैं। बर्फ की शीतलता के बीच का भगवान और प्रकृति का सानिध्य लोगों को ऊर्जा और शक्ति दे रहा है।

सोमवार को मसूरी में मौसम का मिजाज पल पल बदलता रहा। सुबह के समय आसमान में काले बादल छाये रहे। वहीं सुबह 11 बजे करीब तेज हवाओं के साथ ही बारिश शुरू हो गई, जिससे ठंड बढ गई, ठंड से बचने के लिए लोगों ने गर्म कपडों का सहारा लिया। वहीं इस दौरान बाहर से मसूरी आये पर्यटक दुकानों में गर्म कपडों की खरीदारी करते हुए नजर आये।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button