डाटा एंट्री ऑपरेटर अपनी विभिन्न मांगों को लेकर 28 जून को करेंगे उग्र आन्दोलन

राज्य में राजीव गांधी पंचायत सशक्तिकरण योजना द्वारा सन 2014 में 7043 डाटा एंट्री ऑपरेटरों की नियुक्ति की गई थी.

बालोद : जिले डाटा एंट्री ऑपरेटर विधानसभा चुनाव नजदीक आते ही व अपनी बर्षो पूर्व जायज मांग को लेकर एक बार फिर उग्र आंदोलन करेंगे। ऑपरेटरों ने बताया कि राज्य में 7043 ग्राम पंचायतों में राजीव गांधी पंचायत सशक्तिकरण योजना द्वारा सन 2014 में पंचायत सहायक सह डाटा एंट्री ऑपरेटरों की नियुक्ति की गई थी.

पर 18 माह के बाद 26 अगस्त 2015 को योजना बंद होने का हवाला देकर सभी 7043 ऑपरेटरों को पद मुक्त कर दिया गया था। उन्होंने बताया कि सरकार के इस निर्णय के खिलाफ रायपुर बूढ़ातालाब में 78 दिनों तक अनिश्चितकालीन आंदोलन किया गया,

तब पंचायत मंत्री अजय चंद्राकर व ऑपरेटर संघ के बीच 5 बिंदुओं में सहमति बनी व आंदोलन समाप्त किया गया। उन्होंने बताया कि उस समय मंत्री ने 10 दिवस के भीतर नोटशीट तैयार करवाकर सबको ई पंचायत व 14 वे वित्त में रखने का वादा किया था .

लेकिन रोजगार सहायक भर्ती में 15 अंक बोनस मिला उसके बाद आज 2 साल बाद भी हमारी मांगो को पूरा नही किया गया है। उन्होंने कहा कि रोजगार सहायक भर्ती में भी 15 अंक बोनस नही दिया जा रहा है। संघ ने मांग किया था कि 14 वे वित्त में अस्थाई तौर से सभी ऑपरेटरों को रख लिया जाए जब तक कि कोई योजना न बन जाये.

बाद में कोई योजना बनाकर सभी को उस योजना में शामिल कर ले। इस सम्बंध में कई बार मंत्री व जिम्मेदार अधिकारियों के पास लगातार 2 साल से संघ के पदाधिकारी मिलते रहे पर हर बार आश्वासन देकर लौटा दिया जाता रहा है।

उन्होंने बताया कि अब इस मामले को लेकर 28 जून से अनिश्चित कालीन आंदोलन करने का निर्णय लिया गया। आन्दोलन की बाबत एक बैठक हुई जिसमें नामलम्बोदर चंद्रा प्रदेश अध्यक्ष, हरिश साहू प्रदेश उपाध्यक्ष, नीरज चंद्राकर प्रदेश सचिव उपस्थित रहे।

Back to top button