बड़ी खबरराष्ट्रीय

डॉक्टर्स की हड़ताल पर हाई कोर्ट सख्त, गिरफ्तारी के आदेश

नई दिल्ली: राज्य में जानलेवा बनती जा रही डॉक्टरों की हड़ताल के बाद हाई कोर्ट ने सोमवार को आदेश दिया है. दरअसल, अलग-अलग मांगों को लेकर हड़ताल कर रहे डॉक्टरों को राजस्थान हाई कोर्ट ने काम पर लौटने को कहा था.

बावजूद इसके डॉक्टर जिद पर अड़े रहे और काम पर नहीं लौटे. रेजिडेंट डॉक्टरों और इंटर्न डॉक्टरों भी हड़ताल पर चले गए, जिसके चलते मेडिकल कॉलेजों के अस्पतालों में भी हालात खराब होने लगे.

राज्य में रोजाना तीन से चार लोग इलाज के अभाव में दम तोड़ रहे हैं, लेकिन सरकार और डॉक्टर अपनी-अपनी जिद पर अड़े हुए हैं. सभी जिला मुख्यालयों के बड़े अस्पताल सूने पड़े हैं. ग्रामीण इलाकों में जहां पर निजी अस्पतालों की सुविधा नहीं है, मरीज मारे-मारे फिर रहे है.

जयपुर, उदयपुर, जोधपुर जैसे राज्य के बड़े अस्पतालों में भी जहां 4 से 5 हजार ऑपरेशन रोज होते थे, वहां मुश्किल से 15 से 20 ऑपरेशन हो रहे हैं. गंभीर रोगों से पीड़ित लोग इलाज के लिए राज्य के बाहर जा रहे हैं. जब से हड़ताल हुई है तब से अजमेर में 40 से ज्यादा लोगों की मौत हुई है, हालांकि अस्पताल प्रशासन का कहना है कि 15 से 20 मौतें 1 सप्ताह में हो जाती हैं.

डॉक्टरों का आरोप है कि सरकार दमनकारी नीति अपना रही है. डॉक्टरों को पकड़-पकड़ कर जेल में डाला जा रहा है. राज्य में चिकित्सक पेशे पर रेस्मा लागू कर दिया गया है. सारे डॉक्टर डर से भूमिगत हो गए हैं. करीब 70 डॉक्टर जेल में बंद हैं.

वहीं, राज्य के स्वास्थ्य मंत्री कालीचरण सर्राफ ने कहा है कि डॉक्टरों के साथ नवंबर में हुए समझौते की सभी 12 मांगें सरकार ने मान ली हैं, लेकिन डॉक्टर जिद पर अड़े हैं कि नेता डॉक्टरों के ट्रांसफर रद्द किए जाएं.

Tags
Back to top button