उच्च शिक्षण संस्थानों में नवाचार को प्रोत्साहित करने बनेगा ‘नवोन्मेष प्रकोष्ठ’

मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने उठाया महत्वपूर्ण कदम

नई दिल्ली:

मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने बुधवार को अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) में देशभर के उच्च शिक्षण संस्थानों में नवाचार की संस्कृति को व्यवस्थित ढंग से प्रोत्साहित करने के लिये एक ‘नवोन्मेष प्रकोष्ठ’ स्थापित किया।

मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मंत्रालय के नवोन्मेसष प्रकोष्ठ के ‘प्रतिष्ठान की नवोन्मेष परिषद’ कार्यक्रम की शुरूआत की ।

मंत्रालय की विज्ञप्ति के अनुसार, इसका उद्देश्य देशभर के उच्च शिक्षण संस्थानों में नवाचार की संस्कृति को व्यवस्थित ढंग से प्रोत्साहित करना हैं। इस अवसर पर जावड़ेकर ने कहा कि यह देश में नवाचार को संस्थागत बनाने और एक वैज्ञानिक प्रकृति विकसित करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।

उन्होंने बताया कि प्रतिष्ठान की नवोन्मेष परिषद (आईआईसी) का नेटवर्क बनाने का उद्देश्य युवा छात्रों के रचनात्मक वर्षों में उनकी अछ्वुत कल्पनाओं और कार्य विधियों को प्रर्दिशत करके उन्हें प्रोत्साहित, प्रेरित और विकसित करना हैं।

जावड़ेकर ने बताया कि 1000 से अधिक उच्च शिक्षण संस्थानों ने पहले से ही अपने परिसरों में आईआईसी का गठन कर लिया है और मंत्रालय के नवोन्मेष प्रकोष्ठ द्वारा व्यवस्थित आईआईसी नेटवर्क के लिए नामांकित किया है।

वही उन्होंने कहा अब भारतीय विश्वविद्यालय भी संस्थान के नवोन्मेष परिषद कार्यक्रम के जरिए अनुसंधान केन्द्र स्थापित कर रहे हैं और उन्हें उम्मीद हैं कि इस पहल के जरिए अगले दो-तीन वर्षों में वैश्विक नव-परिवर्तन रैंकिंग में अच्छे रैंक तक पहुंच सकते हैं।

1
Back to top button