अन्यखेल

हिमा दास ने रचा इतिहास, स्वर्ण पदक जितने वाली पहली भारतीय महिला बनी

हिमा की उपलब्धि पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद समेत कई दिग्गज हस्तियों ने उन्हें बधाई भी दी है.

स्पोर्ट डेस्क : विश्व जूनियर चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीतकर भारत की हिमा दास ने इतिहास रच दिया. आईएएएफ विश्व अंडर-20 एथलेटिक्स चैंपियनशिप के महिला 400 मीटर फाइनल में स्वर्ण पदक जीतने वाली वह पहली भारतीय महिला एथलीट बन गई हैं.

लेकिन हिमा के लिए उपलब्धि आसान नहीं थी, शुरुआत में पिछड़ने के बाद आखिरी पलों में उन्होंने गोल्डन रेस पूरी की.

चौथे नंबर की लेन में दौड़ रहीं हिमा दास अंतिम मोड़ के बाद रोमानिया की आंद्रिया मिकलोस से पिछड़ रही थीं लेकिन आखिरी के कुछ पलों में उन्होंने काफी तेजी दिखाते हुए बाकी धावकों को पीछे छोड़ दिया.

18 साल की हिमा ने 51.46 सेकेंड में रेस पूरी की. रोमानिया की आंद्रिया मिकलोस ने 52.07 सेकेंड के साथ सिल्वर मेडल और अमेरिका की टेलर मेनसन ने 52.28 सेकेंड के साथ ब्रॉन्ज मेडल जीता.

रेस में आधे से ज्यादा वक्त तक हिमा 4 धावकों से पीछे थीं लेकिन जैसे-जैसे वो फिनिश लाइन के करीब आ रही थीं उन्होंने अपने कदमों को और तेजी से बढ़ाना शुरू कर दिया. रेस खत्म होने से पहले हिमा ने सभी धावकों को पीछे छोड़ दिया.

हिमा ने आखिरी के 100 मीटर में काफी तेजी दिखाई और स्वर्णिम इतिहास रच दिया. हालांकि वह 51.13 सेकेंड के अपने निजी सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन से पीछे रह गईं.

हिमा दास से पहले भारत की किसी भी महिला ने विश्व चैंपियनशिप के किसी भी स्तर पर स्वर्ण पदक नहीं जीता था. वह विश्व स्तर पर ट्रैक स्पर्धा में गोल्ड मेडल जीतने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी हैं.

विश्व जूनियर चैंपियनशिप में भारत के लिए इससे पहले 2002 में सीमा पूनिया चक्का फेंक में ब्रॉन्ज और 2014 में नवजीत कौर ढिल्लों चक्का फेंक में ही ब्रॉन्ज मेडल जीत चुकी हैं.

असम की हिमा दास ने रेस के बाद कहा, ‘विश्व जूनियर चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतकर मैं काफी खुश हूं. मैं स्वदेश में सभी भारतीयों को धन्यवाद देना चाहती हूं और उन्हें भी जो यहां मेरी हौसलाअफजाई कर रहे थे.’ हिमा की उपलब्धि पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद समेत कई दिग्गज हस्तियों ने उन्हें बधाई भी दी है.

Summary
Review Date
Reviewed Item
हिमा दास ने रचा इतिहास, स्वर्ण पदक जितने वाली पहली भारतीय महिला बनी
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags
advt

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.