ज्योतिषमनोरंजन

बॉलीवुड में हिट और शिक्षा में कमजोर

ज्योतिष आचार्या रेखा कल्पदेव कुंडली विशेषज्ञ और प्रश्न शास्त्री 8178677715

बॉलीवुड जगत अभिनय और कला के लिए जाना जाता है। एक से एक बेहतरीन कलाकार यहां अपनी योग्यता का लोहा मनवाते रहे हैं। बॉलीवुड के कलाकारों ने न केवल देश अपितु विदेश में भी अपने सशक्त अभिनय की धूम मचाई है। हम सभी किसी ने किसी फिल्म कलाकार के फैन है।

किसी को दीपिका पादुकोण की स्माईल पसंद हैं तो कोई अक्षय कुमार के स्टंट का दीवाना है। बॉलीवुड में हजारों कलाकार हैं सब अपने आप में कुछ खास गुण रखते हैं, कोई कामेडियन है तो कोई विलियन है। सबकी अदा निकाली है।

बॉलीवुड में जहां नजर दौड़ाते हैं वहीं एक से एक बेहतरीन कलाकार मिल जायेंगे, स्टार और सुपरस्टार्स से बॉलीवुड भरा हुआ है। यहां के स्टार्स की कामयाबी का डंका हालीवुड तक बजता है। प्रियंका चोपड़ा और अन्य अनेक अभिनेत्रियों ने विदेशी अभिनेत्रियों को भी पीछे छोड़ दिया है।

एक ओर जहां अभिनेत्रियां अपने सजीव अभिनय के लिए जानी जाती रही हैं वहीं देखने में आया है कि बॉलीवुड को हिट फिल्में देने वाली जानी-मानी अभिनेत्रियों को शैक्षिक जीवन में अधिक सफलता हासिल नहीं हो सकी हैं। इनके करियर में मिली सफलता तो यह सिद्ध करती हैं कि इनमें टैलेंट की किसी प्रकार की कोई कमी नहीं है परन्तु शिक्षा के मामलें में ये कमजोर रह गई।

आज हम इस आलेख के माध्यम से ऐसी अभिनेत्रियों की बात करने जा रहे हैं जिन्हें बॉलीवुड में जबरदस्त हिट सफलता मिली, लेकिन शैक्षिक जीवन में ये कुछ अधिक न कर पाईं-

ऐश्वर्या राय

ऐश्वर्या राय को दुनिया की सबसे सुंदर महिला के नाम से भी जाना जाता है। ऐश्वर्या ने खुद को एक सुंदर मॉडल, एक बेजोड़ अभिनेत्री और वर्तमान में एक सफल पत्नी और मां के रुप मंे साबित किया है। ऐश्वर्या राय 1994 में मिस वर्ल्ड ख़िताब की विजेता है।

बॉलीवुड में अपनी खूबसूरती और अभिनय के लिए जानी जाने वाली ऐश्वर्या को कई फिल्मों के लिए अवार्ड मिल चुके हैं, यही ऐश्वर्या अपने करियर में बहुत कुछ हासिल कर चुकी हैं, परन्तु अगर बात करें इनकी पढ़ाई की तो छोटी उम्र में अपना करियर शुरु करने के कारण ऐश्वर्या केवल १२वीं तक ही पढ़ाई कर पाई। मॉडलिंग के चलते इन्होंने अपनी पढ़ाई बीच में ही छोड़ दी।

ऐश्वर्या राय कुंड्ली विश्लेषण

कुंडली में पंचम, पंचमेश और कारक गुरु की स्थिति बताती है कि पंचम भाव पर केवल केतु का दृष्टि प्रभाव आ रहा हैं। पंचमेश शनि नवम भाव में हैं और राहू/केतु अक्ष में होने के कारण पीडित भी हैं। शिक्षा कारक गुरु चतुर्थ भाव पर नीचस्थ है।

पंचमेश शनि वक्री अवस्था में हैं, इसलिए शिक्षा क्षेत्र में ऐश्वर्या कुछ अधिक नहीं कर पाई। जन्म से आज तक प्राप्त होने वाली दशाओं पर विचार करें तो- ऐश्वर्या राय का जन्म शुक्र की महादशा में हुआ जो कि इनके जन्म के बाद 11 साल तक चली।

इनका जन्म शुक्र कि महादशा में होने के कारण हम कह सकते हैं के यह बचपन से ही चंचल स्वभाव वाली रही होंगी और यही कारण है के इनका छोटी उम्र में मॉडलिंग की तरफ झुकाव बनने लगा।

इनकी कुंडली में मंगल 8वे भाव में बैठे हैं जिस कारण इनका स्वभाव थोड़ा मूडी भी रहा होगा और शनि 10वें घर में होने के कारण यह दिमाग से काम लेने वाली और शरारती प्रवृति की हो सकती हैं।

इनकी कुंडली में ये भी योग है कि पढ़ाई के साथे-साथ काम करना और जिस कारण इनको स्कूल की उम्र में ही मॉडलिंग के ऑफर भी आने लगे थे। 1984-1990 में इनकी कुंडली में सूर्य की महादशा से प्रभावित थी और सूर्य इनकी कुंडली में दूसरे भाव में बैठे हैं और पांचवे घर में गुरु के बैठे होने के कारण इनके घर से बाहर जाने के भी योग बनते थे जिसके कारण इनके पूरे परिवार को ही जन्म स्थान छोडकर मुंबई आना पड़ा और वही से इनकी मॉडलिंग की भी शुरुआत हुई।

क्योंकि चतुर्थ में बैठे हुए गुरु पढ़ाई के चलते चलते काम भी लगवा देते हैं और यही कारण है के इन्हें 9वी कक्षा से मॉडलिंग के ऑफर भी आने लगे। इसी के चलते ये अधिक पढ़ाई नहीं कर सकी।

2007-2025 में इनकी कुंडली में राहू की महादशा चलेगी इस महादशा के अंदर जब भी यह घर में मरमत करवायेंगी या कुछ नया बनवायेगी तब इनको जरूर कुछ मुसीबतों का सामना करना पड़ सकता है और हो सकता है।

काजोल

90 के दशक की सबसे सफल अभिनेत्री आज किसी परिचय की मोहताज़ नहीं हैं। काजोल अपने अब तक के फ़िल्मी सफर में 6 फिल्मफेयर अवार्ड जीत चुकीं हैं। 90 के दशक की टॉप अभिनेत्रियों में शामिल, काजोल लाखों दिलों पर आज भी राज करती हैं।

काजोल ने अपने फ़िल्मी करियर की शुरुआत महज़ 16 साल की उम्र में ही कर दी थी। हालांकि इनकी पहली फ़िल्म ‘बेखुदी’ बहुत अच्छी नहीं रही थी किन्तु फ़िल्म में काजोल की अदाकारी जरूर लोगों को पसंद आई थी। फ़िल्म ‘करण-अर्जुन’ और ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जायेंगे’

यह दोनों ही फिल्में साल 1995 में आईं और दोनों ही अपने समय की हिट फिल्में रहीं हैं। आप हैरान रह जाएंगे की काजोल 12वीं पास भी नहीं हैं। उन्होंने 16 की उम्र में ही अपनी पहली फिल्म पर काम करना शुरू कर दिया था और वह इसके बाद स्कूल वापस ही नहीं गयीं। उनकी पहली फिल्म थी “बेखुदी।”

कुंड्ली विश्लेषण

काजोल का जन्म 5 अक्तूबर 1975 को मुंबई में विशाखा नक्षत्र में हुआ। इस नक्षत्र में जन्म लेने वाले सबका मन जीत लेते है एवं स्वाभिमानी होते है, यह गुण काजोल में है। पंचम भाव पर शुभ ग्रह शुक्र स्थित हैं, अन्य किसी ग्रह का प्रभाव शिक्षा भाव पर नहीं आ रहा हैं।

पंचमेश षष्ठेश बुध के साथ हैं और इनपर शनि और मंगल की दृष्टि हैं। यह इनकी शिक्षा में बाधक का कार्य कर रही हैं। शिक्षा कारक गुरु स्वयं व्यय भाव में हैं। ये सभी योग शैक्षिक जीवन मंग परेशानियां दर्शा रहे हैं। आयेश और कर्मेश शनि की स्थिति ने इन्हें करियर में उन्नति, सफलता और सम्मान दिया।

करिश्मा कपूर

करिश्मा कपूर अत्यंत सुंदर और प्रतिभाशाली बॉलीवुड अभिनेत्री हैं। करिश्मा कपूर अभिनेत्री ने अपनी शानदार प्रतिभा और सुंदरता के साथ बॉलीवुड में एक सम्मान जनक स्थान बनाया है। उन्होंने बहुत छोटी उम्र में फिल्मों में काम करना शुरू कर दिया था।

जिसके चलते इनकी पढ़ाई काफी समय के लिए बाधित रहीं। करियर पर ध्यान देने के बाद इन्होंने अपनी पढ़ाई फिर से शुरु की और फिर हाई स्कूल और कॉलेज की अपनी पढ़ाई पूरी की। कुछ यही स्थिति इनकी कुंडली भी कह रही हैं- आईये देखें

कुंडली विश्लेषण

करिश्मा की जन्म कुंडली सिंह लग्न और धनु राशि की हैं। पंचम भाव में द्वादशेश चंद्र स्थित है। जिसपर अशुभ शनि की सप्तम दृष्टि है। पंचमेश गुरु अष्टम भाव में हैं और शिक्षा कारक भी गुरु स्वयं ही हैं।

माध्यमिक शिक्षा के लिए चतुर्थ भाव पर विचार किया जाता हैं, चतुर्थ भाव पर राहू/केतु का प्रभाव हैं। करिश्मा का जन्म सूर्य की महादशा में हुआ है एवं वर्तमान में गुरु की महादशा चल रही है जोकि 31/10/15 से 31/10/2031 तक रहेगी। यह महादशा संतान से जुड़े विषयों की रहेगी।

दीपिका पादुकोण

दीपिका पादुकोण एक भारतीय फ़िल्म अभिनेत्री और मॉडल है और वर्तमान में वह फ़िल्म जगत की सबसे और सबसे ज्यादा फीस लेने वाली अभिनेत्री है। उन्होंने हिंदी फिल्मों से ही अपने करियर की शुरुवात की थी और फ़िल्म जगत में उन्हें कई पुरस्कार भी मिले जिनमे तीन फिल्मफेयर अवार्ड भी शामिल है। किशोरावस्था में दीपिका नेशनल लेवल चैंपियनशिप में बॅडमिंटन खेलती थी लेकिन खेलो से अलग होकर उन्होंने अपना करियर मॉडल के रूप में बनाया।

मॉडल बनने के कुछ समय बाद ही उन्हें फिल्मो के ऑफर आने लगे और 2006 में उन्होंने कन्नड़ फ़िल्म ऐश्वर्या से अपने फ़िल्मी करियर की शुरुवात की। दीपिका ने 12वीं कक्षा तक पढ़ाई तो की और उसके बाद वह कॉलेज भी गयीं लेकिन कुछ समय के लिए।

क्यूंकि उन्होंने उस समय के आस-पास मॉडलिंग शुरू कर दी थी और वह फ़िल्मी करियर बनाना चाहती थीं; इस वजह से दीपिका ने पढ़ाई छोड़ दी। बाद में उनका परिवार रहने के लिये बैंगलोर आ गया, उस समय दीपिका की उम्र सिर्फ 1 साल की ही थी।

बैंगलोर की सोफिया हाई स्कूल से उन्होंने प्रारंभिक शिक्षा ग्रहण की और माउंट कारमेल कॉलेज से यूनिवर्सिटी पढाई पूरी की। बाद में इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी में वे सोशियोलॉजी में बैचलर ऑफ़ आर्ट की डिग्री हासिल करने के लिये दाखिल हुई लेकिन बाद में मॉडलिंग में करियर बनाने के लिये उन्होंने इसे बीच में ही छोड़ दिया था।

कुंडली विश्लेषण

दीपिका की कुंडली में चंद्र तुला राशि में है। चंद्र कुंडली के लग्न में मंगल, केतु विराजमान हैं। दीपिका के पंचम भाव पर शनि और राहु ग्रह का प्रभाव हैं। पंचमेश सूर्य पर भी राहु का प्रभाव आ रहा हैं। कारक गुरु नीचस्थ है और कर्मेश शनि की तीसरी दृष्टि आ रही हैं। इसके अलावा चतुर्थेश चंद्र स्वयं राहू/केतु अक्ष में होने के कारण पीडित हैं।

इन सभी योगों ने इन्हें शिक्षा क्षेत्र में परेशानियां दी। कर्मेश भाव अपने भावेश शनि से दॄष्ट होने के कारण बल प्राप्त कर रहा है और आयेश का अष्टम भाव में होना, अप्रत्याशित सफलता का कारण बन रहा है।

Tags
Back to top button