गृह मंत्रालय ने लॉंच किया एसपीसी प्रोग्राम, मुंगेली जिले के 21 बच्चे हुए शामिल

मुंगेली।

बच्चे कल का भविष्य होते है, इस बात को ध्यान में रखते हुए केंद्रीय गृह मंत्रालय ने स्टूडेंट पुलिस कैडेट प्रोगाम शुरू किया है। पिछले दिनों 21 जुलाई को हरियाणा के गुरुग्राम में केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने इस कार्यक्रम की शुरूआत की।

समाज के बीच सेतु की तरह कार्य करेगा

इस कार्यक्रम के तहत बच्चों को अध्ययन के साथ साथ पुलिस मित्र के रूप में तैयार किया जायेगा। एसपीसी कैडेट अनुशासन के साथ कम्यूनिटी पोलिसिंग सीखकर लोगों को जागरूक करने पुलिस और समाज के बीच सेतु की तरह कार्य करेगा।

-समाज के लोगों को जागरूक किया जाएगा

एसपीसी के उदघाटन के अवसर पर देशभर से आए स्कूली छात्र छात्राओं को संबोधित करते हुए गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि उन्हें आज बेहद खुशी हो रही हैं।

उन्होंने कहा कि एसपीसी के स्टूडेंट्स विभिन इंडोर और आउटडोर गतिविधियों के साथ समाज के लोगों को जागरूक कर उनका चरित्र निर्माण किया जाएगा। इसके जरिए लोग ना सिर्फ कानून का सम्मान करेंगे बल्कि जागरूक होकर एक समृद्ध और सशक्त देश और समाज बनाएंगे।

कार्यक्रम में हरियाणा के मुख्यमंत्री एमएल खट्टर ने आयोजन को लेकर खुशी जाहिर करते हुए कहा कि इससे समाज मे कानून और व्यवस्था में लोगो का भरोसा बढ़ेगा बल्कि पॉलिसी के छवि को लेकर भी सुधार देखने को मिलेगा।

आयोजन को सम्बोधित करते हुए सीएम खट्टर ने कहा कि इस तरह के आयोजन की लेकर हरियाणा सरकार और प्रदेश खुद को गौरवान्वित महसूस कर रही हैं।

आयोजन के दौरान गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने स्टूडेंट पुलिस कैडेट का हैंडबुक भी जारी किया। जिसमें कैडेट्स की सालभर की इंडोर और आउटडोर गतिविधियों की जानकारी दी गई हैं। हैंडबुक के मुताबिक ये कैडेट इंडोर गतिविधियों के तहत निबन्ध लेखन,सामुहिक-परिचर्चा(ग्रुप डिस्कशन) होंगे वहीं आउटडोर गतिविधियों में ग्राम स्तर, थाना स्तर और ब्लॉक स्तर पर गठित सुरक्षा समितियो के साथ मिलकर अपराधो का रोकथाम कम्युनिटी पोलिसिंग के रूप में करने का काम करेंगे। ,

-समाज में जागरूकता लाने अभियान चलाया जाएगा

साथ ही थाना स्तर पर बीट स्तर पर सम्बंधित विवेचना अधिकारी के साथ मिलकर लोगो में कानून के प्रति जागरूकता लाने का काम करेगी। सामाजिक अपराध जैसे दहेज,कन्या भ्रूणहत्या,बालश्रम, बालविवाह,मानव तस्करी, छुआछूत और घरेलू हिंसा को लेकर समाज में जागरूकता लाने अभियान चलाया जाएगा।

महिला एवं बाल सुरक्षा को लेकर भी कैडेट्स स्थानीय पुलिस के साथ मिलकर समाज मे लोगों को जागरूक करने का काम करेगी। इसके अलावा आज के समय मे इंटरनेट के बढ़ते दुरुपयोग को रोकने, सायबर अपराध और उनसे निपटने के गुर भी इन कैडेट्स को सिखाए जाएंगे।

एसपीसी कैडेट्स को विशेष प्रशिक्षण के जरिए करप्शन से निपटने और सड़क यातायात को लोगो के लिए सरल और सुविधाजनक बनाने के लिए समय समय पर कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। सामुदायिक जिम्मदारियो के साथ समाज विकास के डिस्च में निश्चित तौर पर यह कैडेट्स एक महती भूमिका निभाएंगें। एसपीसी के लांचिंग के अवसर पर देशभर के 25 राज्यों के तकरीबन 6 हजार स्कूली बच्चों ने भाग लिया।

– 21 छात्र-छात्राओं की टीम ने भाग लिया

छत्तीसगढ़ से महिला आईपीएस नीतू कमल की अगुवाई में मुंगेली जिले से उप अधीक्षक टीआर पटेल और रक्षा टीम प्रभारी निरीक्षक कविता धुर्वे के साथ पीटीएस बोरगांव के सहायक कमांडेंट मारुति जगने और निरीक्षक विपिन रंगारी सहित 21 छात्र-छात्राओं की टीम ने भाग लिया। जिसमें मुंगेली जिले के हाई स्कूलअखरार,हथनी-कला, और हायर सेकंडरी स्कूल पड़ियाईन के बच्चे शामिल हुए।

-टीम ने एसपी से की मुलाकात

सोमवार को हरिद्वार पूरी उत्कल एक्सप्रेस से वापस लौटी टीम ने आज पुलिस अधीक्षक पारुल माथुर से मुलाकात की। इसके बाद आयोजित पत्रकार वार्ता को सम्बोधित करते हुए एसपी पारुल माथुर ने बच्चों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि एसपीसी का कामकाज हैंडबुक के मुताबिक जिले में जल्द प्रारंभ कर कम्यूनिटी पोलिसिंग के जरिये अपराध रोकथाम की दिशा में बेहतर परिणाम के लिए काम शुरू किया जाएगा।

-मैजिक शो का भी आयोजन किया गया

इसके अलावा एसपीसी टीम के बच्चों ने मीडिया कर्मियों के साथ आयोजनक के अपने अनुभव साझा किए,पत्रकार वार्ता के अंत मे बच्चो के मनोरंजन के लिए मैजिक शो का भी आयोजन किया गया।

-प्रधानमंत्री मोदी ने दिया शुभकामना संदेश

एसपीसी के गठन को लेकर माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि गृह मंत्रालय द्वारा राष्ट्रीय स्तर पर एसपीसी के गठन से हमारे बच्चों को पुलिस व्यवस्था और उसके कामकाज को करीब से जानने में मदद मिलेगी। अपने संदेश में उन्होंने कहा कि इससे प्रशासन और सुरक्षा में तुलनात्मक रूप से विकास के साथ व्यक्तित्व निर्माण आसान होगा।

– नए और सशक्त भारत का निर्माण

एसपीसी समाज मे देशप्रेम की भावना को मजबूत कर लोगों में सेवा और समर्पण की सोच विकसित करेगा। पीएम मोदी ने उम्मीद जाहिर करते हुए कहा कि गृह मंत्रालय की यह पहल देश भर में छात्रों को सफलता पूरक जिम्मेदार नागरिक बनाते हुए एक नए और सशक्त भारत का निर्माण कर सकेगा।

Back to top button