राष्ट्रीय

हनीप्रीत को सता रहा है ‘पापा’ का पीठ दर्द, जताई राम रहीम से मिलने की इच्छा

डेरा प्रमुख राम रहीम की बेटी हनीप्रीत पुलिस की गिरफ्त में है और रिमांड के दौरान कड़ी पूछताछ से वह धीरे-धीरे टूट रही है. अब जेल में बंद हनीप्रीत इंसा को अपने पापा गुरमीत राम रहीम की याद सताने लगी है. बलात्कारी बाबा की खास राजदार हनीप्रीत इंसा अब उससे मिलना चाहती है.

पिछले 4 दिनों के दौरान हनीप्रीत पूछताछ कर रही महिला पुलिस अधिकारियों और यहां तक कि लेडी डॉक्टर से भी पापा राम रहीम से मिलने की इच्छा जाहिर कर चुकी है. पुलिस स्टेशन से जुड़े एक अधिकारी ने ‘आजतक’ को बताया है कि हनीप्रीत हमेशा गुरमीत राम रहीम के लिए फिक्रमंद रहती है.

जानकारी के मुताबिक हनीप्रीत अपने पापा राम रहीम के पीठ दर्द को लेकर चिंतित रहती है और वह बार-बार कहती है कि पापा जी की कमर में दर्द रहता है, वह तकलीफ में होंगे और वह उनसे मिलना चाहती है. उसने इस मांग को लेकर कई बार मेडिकल चेकअप करने आई लेडी डॉक्टर से डांट भी खाई है.

सूत्रों के मुताबिक लेडी डॉक्टर ने उसे डांटते हुए यह कहा था कि अगर गुरमीत राम रहीम कमर दर्द से परेशान है तो वह क्या उसकी डॉक्टर है. उधर जेल में बंद गुरमीत राम रहीम ने जेल पहुंचते ही सबसे पहले जेल अधिकारियों से आग्रह किया था कि हनीप्रीत इंसा को उसके साथ रहने की इजाजत दे दी जाए क्योंकि वह उसकी फिजियोथैरेपिस्ट है.

जेल में राम रहीम ने अपने सगे संबंधियों से बात करने के लिए जिन दो नंबरों को जेल अधिकारियों को दिया था उसमें से एक नंबर हनीप्रीत इंसा का भी है. यह नंबर पिछले 40 दिनों से बंद आ रहा है हनीप्रीत ने पुलिस को बताया है कि उसका मोबाइल फोन कहीं गुम हो गया है. हालांकि जेल अधिकारियों ने इस बात से इनकार किया था कि गुरमीत राम रहीम जेल में हनी-हनी कहता रहता है लेकिन उसके द्वारा दिए गए हनीप्रीत के मोबाइल नंबर से यही साबित होता है कि वह हनीप्रीत से बात करना चाहता है.

हनीप्रीत अपने आसपास गस्त कर रही महिला पुलिस कर्मियों से भी वह कुछ ज्यादा बात नहीं करती. एक पुलिसकर्मी ने बताया कि हनीप्रीत को खाने-पीने में कोई दिलचस्पी नहीं है वह मन ही मन कुछ सोचती रहती है. उधर हनीप्रीत को शायद नहीं मालूम कि गुरमीत राम रहीम ने जेल की रोटियां खा कर अपना 6 किलो वजन कम कर दिया है और अब उसकी दवाइयों की डोज़ भी घटकर आधी रह गई है.

Summary
Review Date
Reviewed Item
हनीप्रीत इंसा
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *