छत्तीसगढ़

सिर्फ 10 रुपए और एक किलो चावल के लिए परिवार का हुक्का-पानी बंद

बिलासपुर।

छत्तीसगढ़ के जांजगीर के वार्ड 10 तलवापारा मोहल्ला में रहने वाले एक परिवार का बहिष्कार सिर्फ इसलिए कर दिया गया की उस परिवार के मुखिया ने मोहल्ले में एक मौत होने के बाद मदद के रूप में 10 रुपए व एक किलो चावल नहीं दिए। ये ही नहीं कुछ दिनों के बाद इस परिवार का हुक्का-पानी भी मोहल्ले में बंद करा दिया गया है।

इसके बाद से यह परिवार 10 महीनों से दिक्कत से भरा जीवन जीने को मजबूर है। आलम यह है कि ना तो इनसे कोई बात करता है और न ही कोई दुकानदार इन्हें सामान देता है। इसी वजह से मानसिक तनाव में आकर परिवार के एक बेटे ने जहर का सेवन कर लिया।

दिलीप सूर्यवंशी के परिवार का बहिष्कार फरवरी में किया गया। पीड़ित परिवार ने इसकी शिकायत कलेक्टर के जनदर्शन में भी किया गया, लेकिन इसे अनदेखा कर दिया गया। वहीं अब परिवार घर-बार बेचकर दूसरी जगह बसने की तैयारी कर रहा है। परिवार का आरोप है कि कुछ रसूखदारों ने जानबूझकर बदला लेने के लिए मोहल्ले की एक समिति बनाकर बहिष्कार करने का निर्णय लिया है, जिसकी सुनवाई शासन भी नहीं कर रहा है।

Summary
Review Date
Reviewed Item
सिर्फ 10 रुपए और एक किलो चावल के लिए परिवार का हुक्का-पानी बंद
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags