मध्यप्रदेशराज्य

नीचे गिर गई अस्पताल की लिफ्ट, बाल-बाल बच गए पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ

लिफ्ट ऊपर जाने की जगह करीब 10 फीट नीचे गिर गई

इंदौर:इंदौर के एक निजी अस्पताल में भर्ती पूर्व मंत्री रामेश्वर पटेल के स्वास्थ्य का हाल-चाल जानने निजी अस्पताल पहुंचे मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के साथ कांग्रेस नेता सज्जन सिंह वर्मा और जीतू पटवारी लिफ्ट में सवार हो गए, लेकिन लिफ्ट ऊपर जाने की जगह करीब 10 फीट नीचे गिर गई.

इसके बाद लिफ्ट का दरवाजा बंद हो गया. लिफ्ट गिरते ही कमलनाथ की सुरक्षा में तैनात जवान नीचे की ओर भागे. दूसरी तरफ पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ जिस लिफ्ट में सवार थे, उसके गिरने की खबर सुनकर इंदौर प्रशासन के भी हाथ-पांव फूल गए. आनन-फानन में लिफ्ट इंजीनियर को बुलाया गया और लिफ्ट का दरवाजा तोड़कर कमलनाथ समेत सभी नेताओं को बाहर निकाला गया.

शिवराज ने कमलनाथ से फोन पर की बात लिफ्ट गिरने की घटना के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने फोन पर कमलनाथ से चर्चा की. उन्होंने ट्वीट करके बताया कि ‘इंदौर के निजी अस्पताल में लिफ्ट में सवार पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ जी और अन्य साथियों के गिरने की जानकारी मिली. फोन पर उनका कुशलक्षेम पूछा है. ईश्वर की कृपा से सभी सकुशल हैं. इंदौर कलेक्टर को इस दुर्घटना की जांच के आदेश दिये हैं’.

‘कमलनाथ की सुरक्षा में हुई चूक’- कांग्रेस वहीं कांग्रेस ने इंदौर में लिफ्ट टूटने की घटना को गंभीर बताते हुए इसे पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की सुरक्षा में गंभीर चूक बताया है. कांग्रेस प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा ने कहा कि ‘लिफ्ट के गिर जाने की घटना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है. यह कमलनाथ जी की सुरक्षा में बड़ी लापरवाही व चूक है. इसकी जांच हो और अस्पताल प्रबंधन पर कार्रवाई हो. इस अस्पताल का निर्माण अभी-अभी हुआ है.

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ जी व उनके साथ कांग्रेस के अन्य नेता लिफ्ट में ऊपर जाने के लिए सवार हुए, तभी लिफ्ट अचानक धड़ाम से 10 फीट नीचे गिर पड़ी और लिफ्ट में धूल और धुएं का गुबार भर गया. लिफ्ट के दरवाजे लॉक हो गए और करीब 10 से 15 मिनट बाद बमुश्किल लिफ्ट का लॉक खोला गया’

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button