होटल लीला और ब्रुकफील्ड की हो रही थी डील, ITC ने इस सौदे का सेबी से किया विरोध

नई दिल्ली। बाजार नियामक सेबी ने वित्तीय संकट से जूझ रहे होटल लीला वेंचर को अपने चार होटल और अन्य संपत्तियों को कनाडा के निवेश कोष ब्रुकफील्ड एसेट मैनेजमेंट को बेचने से रोक दिया है। होटल लीला ने बुधवार को यह जानकारी दी।

\

होटल लीला वेंचर लिमिटेड (एचएलवीएल) ने 18 अप्रैल को बेंगलुरू, चेन्नई , दिल्ली और उदयपुर में स्थित अपने चार होटलों और एक अन्य संपत्ति को ब्रुकफील्ड को 3,950 करोड़ रुपये में बेचने की घोषणा की थी। इसके लिए उसने शेयरधारकों की मंजूरी मांगी है।

भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) ने होटल लीला को लिखे अपने पत्र में कहा कि उसे विविध कारोबार करने वाले आईटीसी समूह और अल्पांश शेयरधारक जीवन बीमा निगम से विरोध पत्र मिला है।

आईटीसी ने होटल लीला वेंचर के खिलाफ राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) का भी रुख किया है। समूह ने होटल लीला वेंचर पर ‘उत्पीड़न और कुप्रबंधन’ का आरोप लगाया है।

होटल लीला वेंचर ने शेयर बाजार को दी सूचना में कहा कि इस मामले में सेबी को होटल लीला वेंचर के खिलाफ विरोध पत्र मिले हैं। सेबी ने प्रतिभूति बाजार में निवेशकों के हितों को लेकर चिंता जताई है। सेबी आपत्तियों की जांच कर रही है। सेबी ने अगले निर्देश तक होटल लीला वेंचर को प्रस्तावित लेनदेन पर आगे बढ़ने से रोका है।

Back to top button