जाने भारतीय क्रिकेट टीम के चयनकर्ताओं की कितनी बढ़ी सैलरी

सीओए ने भी इस पर अपनी मुहर लगा दी है।

नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) काफी लंबे समय से चयनकर्ताओं की सैलरी बढ़ाने पर विचार कर रहा था, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने द्वारा गठित प्रशासकों की समिति (सीओए) ने इसे रोक रखा था।

आखिरकार अब सीओए ने भी इस पर अपनी मुहर लगा दी है। मुख्य चयनकर्ता की सैलरी में 20 लाख तथा चयनकर्ताओं की सैलरी में 30 लाख रुपये सालाना की बढ़ोत्तरी की गई है।

तीन सदस्यीय चयन समीति में पूर्व भारतीय विकेटकीपर एमएसके प्रसाद हैं जबकि अन्य दो सदस्यों में पूर्व अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर देवांग गांधी तथा सरनदीप सिंह हैं। मुख्य चयनकर्ता का वेतन अब 80 लाख रुपये से बढ़कर 1 करोड़ रुपये सालाना होगा जबकि दो अन्य चयनकर्ताओं का वेतन 60 लाख रुपये सालाना से बढ़कर 90 लाख रुपये सालाना होगा।

यहीं नहीं जूनियर चयनकर्ताओं के वेतन में भी वृद्धि की गई है और अब इसे बढ़ाकर 60 लाख रुपये प्रतिवर्ष कर दिया गया है। जबकि चैयरमेन का वेतन 65 लाख रुपये सालाना हो गया है।

बीसीसीआई के कार्यवाहक सचिव अमिताभ चौधरी ने बीसीसीआई के जनरल मैनेजर सबा करीब को सपोर्टिंग स्टाफ तथा भारत ए के कोच राहुल द्रविड़ के वेतन वृद्धि की समीक्षा करने को भी कहा था। इसके बाद अमिताभ चौधरी ने इनके वेतन में 70 फीसदी तक बढ़ोत्तरी करने का प्रस्ताव रखा है।

महिलाओं की चयन समिति के वेतन में भी बढ़ोत्तरी की गई है। यहां सदस्यों को 25 लाख सालाना तथा मुख्य चयनकर्ता को 30 लाख सालाना मिलेंगे। आपको बता दें कि इसी साल बीसीसीआई ने अंपायर, क्यूरेटर तथा स्कोरर के वेतन में भी बढ़ोत्तरी की थी।

1
Back to top button