हेल्थ

डायबिटीज के मरीज कैसे बचें डायबिटिक फुट अल्सर के खतरे से

आपके शरीर के अन्य अंगों की अपेक्षा अधिक मुलायम होते हैं आपके पैरों के टिशूज

पैर का अल्सर अनियंत्रित शुगर की एक सामान्य जटिलता है। जिस में त्वचा की उतके टूट जाती है और उसके नीचे की परतें उजागर हो जाती है। वे आपके पैर के अंगूठे और आपके पंजों के नीचे सबसे आम होता हैं। और यह आपके पैरों की हड्डियों को प्रभावित कर सकता है।

शुगर वाले सभी लोगों में पैर अल्सर और दर्द हो सकता हैं। लेकिन पैर की अच्छी देखभाल उन्हें रोकने में मदद कर सकती है। इनका इलाज इनके कारणों के आधार पर भिन्न होता है। यह सुनिश्चित करने के लिए कि यह एक गंभीर समस्या नहीं है।

डॉक्टर को अपने पैर के दर्द या असुविधा के बारे में बताएं, क्योंकि अगर इनपर ध्यान ना दिया जाए तो संक्रमित अल्सर का विच्छेदन हो सकता है।पैर के अल्सर के लक्षण हमेशा स्पष्ट नहीं होते हैं।

कभी-कभी जब तक अल्सर संक्रमित नहीं हो जाए तब तक आप अल्सर के लक्षण भी नहीं देख पाते हैं। चिकित्सक से बात करें यदि आप की त्वचा का रंग बदरंग हो गया हो, या ऊतक काले हो गए हो, या आपके अल्सर के स्थान पर दर्द हो रहा हो।

डायबिटिक फुट अल्सर कितना खतरनाक

आपके पैरों के टिशूज आपके शरीर के अन्य अंगों की अपेक्षा अधिक मुलायम होते हैं. इसलिए अगर किसी इंसान के पैरों पर इंफेक्शन होता है, तो यह उनकी मांसपेशियों और हड्डियों में आसानी से फैल सकता है.

मधुमेह रोगियों में साफ ऑक्सीजनयुक्त खून की समस्या पहले से ही होती है. ऐसे में पैरों में होने वाला ये इंफेक्शन उनके लिए बेहद घातक साबित हो सकता है. कई बार यह इंफेक्शन इतना फैल सकता है कि इंसान के पैर को काटना पड़ता है, जिससे यह इंफेक्शन शरीर के दूसरे अंगों तक न पहुंच सके.

डायबिटिक फुट अल्सर के खतरे से बचाव

अगर आप डायबिटीज के मरीज हैं, तो आपको कुछ बातों का ध्यान रखना होगा, जिससे आप डायबिटिक फुट अल्सर के खतरे से बच सकते हैं.

-आप अपने ब्लड शुगर को कंट्रोल रखकर इस संक्रमण के खतरे को कम कर सकते हैं. अगर आपके खून में ग्लूकोज का स्तर सामान्य रहता है, तो आपको चोट या घाव आदि आसानी और जल्दी से होगा. इसके अलावा जब आपका ब्लड शुगर सामान्य रहता है तो घाव तेजी से भरना शुरू हो जाता है, जबकि हाई ब्लड शुगर होने पर घाव बढ़ना शुरू हो जाता है.

-आप अपने पैरों पर रोज ध्यान रखें. अगर आपको अपने पैरों पर कोई छाला, लाल निशान या घाव दिखता है, तो बिना देर किए डॉक्टर से संपर्क करें. आमतौर पर ऐसे फुट अल्सर को सही करने के लिए डॉक्टर इंफेक्शन वाले हिस्से को त्वचा में से काटकर अलग कर देते हैं, जिससे घाव तेजी से भरने लगता है.

-इसके अलावा डॉक्टर आपके घाव पर ड्रेसिंग कर देते हैं, जो आपको रोजाना बदलना चाहिए. एक ही पट्टी को बहुत दिनों तक घाव पर लगाए रखने से भी इंफेक्शन बढ़ता है.

-डायबिटिक फुट अल्सर में डॉक्टर आपको कुछ दिन के लिए आराम करने की सलाह भी दे सकते हैं.

-अगर आपके पैरों का घाव 4 हफ्तों में ठीक नहीं होतो है या इंफेक्शन आपकी हड्डियों तक पहुंच गया है, तो डॉक्टर आपको ऑपरेशन की सलाह भी दे सकते हैं.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button