गर्भावस्था में किस तरह सोना महिला के लिए होता है बहुत फायदेमंद

महिला को गर्भावस्था में ख्याल रखना चाहिए कि बाईं करवट लेकर सोने से बहुत फायदा मिलता है।

प्रेग्नेंसी में मां अपना खास ख्याल रखना पड़ता है ताकि छोटी सी गलती उसके बच्चे पर भारी न पड़े। खान-पान,चलने-फिरने,उठने-बैठने के साथ-साथ सोने की पॉजीशन भी प्रेग्नेंसी में बहुत महत्व रखती है।

इस दौरान कुछ महिलाओं को नींद न आने की परेशानी होती है। ऐसे में बिना सोचे समझें करवट बदलना भी नुकसानदेह हो सकता है। सोने का तरीका सही होगा तो इससे गर्भ में पल रहे बच्चे का शारीरिक विकास भी बेहतर होगा। आइए जानें गर्भावस्था में किस पॉजीशन में सोने से फायदा मिलता है।

बाईं करवट लेना लाभकारी

महिला को गर्भावस्था में इस बात का खास ख्याल रखना चाहिए कि बाईं करवट लेकर सोने से बहुत फायदा मिलता है। इससे किडनी,यूट्रस और गर्भ में सही तरह से ब्लड सर्कुलेशन होता है। इससे खाना पचाने में भी आसानी होती है। जिन महिलाओं को सूजन की परेशानी होती है, बाईं करवट लेकर सोने से हाथों और पैरों की सूजन कम होने लगती है। यह पॉजीशन सोने के लिए बैस्ट है।

तकिए का करें इस्तेमाल

जिस तरह बच्चे की शारीरिक बनावट बढ़ती जाती है,सोने में भी परेशानी होने लगती है। ऐसे में आप तकिए का सहारा ले सकते हैं। पैरों के नीचे तकिया लगाकर सोने से भी बहुत आराम मिलता है।

कुछ जरूरी बातों का रखें ख्याल

1. दिन को ज्यादा समय न सोएं, इससे रात की नींद खराब हो सकती है। आप कुछ समय लेट कर आराम तो कर सकते हैं लेकिन दिन में ज्यादा न सोएं।

2. रात को कभी-कभी पीठ के बल सो सकते हैं लेकिन जब नीद खुले तो बाईं करवट ले लें। ज्यादा देर पीठ के बल सोने से कमर में दर्द रह सकता है।

3. सोते समय कपड़े टाइट नहीं होने चाहिए कोशिश करें की आरामदायक कपड़े ही पहनें।

 

4. रात को सोने से कुछ घंटों पहले तरल पदार्थों का सेवन करना बंद कर दें। दिन में पर्याप्त पानी पीएं। रात को ज्यादा पानी पीने से बार-बार बाथरूम जाना पड़ सकता है।

5. प्रेग्नेंसी में कभी भी पेट के बल नहीं सोना चाहिए।

6. इस समय बाईं करवट लेकर सोना फायदेमंद होता है लेकिन ज्यादा देर तक एक ही पॉजीशन में सोने से थकावट भी हो सकती है। आप कुछ देर के लिए दाई करवट भी ले सकते हैं लेकिन बाद में करवट बदल लें।

 <>

1
Back to top button