छत्तीसगढ़

हमर जंगल हमर जीविका के अंतर्गत लोगों को आर्थिक रूप से सम्पन्न कराना है – आ.पी. मण्डल

धान की खेती के साथ फलोद्यान को भी बढ़ावा देना है जिलाधिकारियों की समीक्षा बैठक सम्पन्न

सूरजपुर : पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव श्री आ0पी0 मण्डल ने आज कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में जिला अधिकारियों की बैठक ली। बैठक में कलेक्टर श्री के0सी0 देवसेनापति, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री संजीव कुमार झा, मुख्य वन सरंक्षक श्री के0के0 बिसेन भी उपस्थित थे।

बैठक में श्री मण्डल ने समय सीमा के अन्दर कार्य करने का सुझाव दिया है। गरीबों की आमदनी बढ़ाने और वन भूमि के दिये गये पट्टा का बेहतर उपयोग करने के लिए कलस्टर का पहचान करें। इसके बाद कलस्टर में दिये गये वन भूमि के पट्टो का सीमांकन करायें तथा उस भूमि की फेंसिंग भी करायें और विभिन्न विभागों की योजनाओं का अभिसरण कर कृषि, उद्यानिकी, मछलीपालन, मुर्गी पालन के लिए सहायता उपलब्ध करायें। उन्होंने कहा कि कलस्टर के सभी किसानों के लिए डीएमएफ आदि से ट्यूबवेल खनन कराकर सौर सुजला योजना के तहत पंप प्रदान कर उन्हें सिंचाई सुविधा उपलब्ध करायें, जिससे गरीबों की आमदनी बढ़ सके। गरीब तबके एकल महिला, अनुसूचित जनजाति, बी0पी0एल0 परिवार से जुडे़ लघु सीमांत कृषक जो मनरेगा में कार्य करते हैं, उनका जीवन स्तर ऊंचा उठाना है, आर्थिक दृष्टि से संपन्न करना है। उन्होंने बताया कि हमर जंगल हमर जीविका के अनुरूप लोगों को आर्थिक रूप से सम्पन्न कराना है। किसानों को धान की खेती के साथ-साथ अन्य फसलों को भी बढ़ावा दिया जाना है। डबरी, तालाब एवं कुआं आदि प्रत्येक किसान के खेत में खुदाई करके जलसंवर्धन को बढ़ावा देना है। सोलर पम्प से किसानों के खेतों में सिंचाई किया जाना है। मत्स्य पालन के साथ-साथ हल्दी, अदरक, मुनगा, आलू व चनें की खेती को बढ़ावा दिया जाना है। इसके लिए अपर मुख्य सचिव ने ग्रामीण यांत्रिकी विभाग के कार्यपालन अभियंता को किसानों के खेतों को फैंनसिंग कराने तत्काल खम्बा बनवाकर तार का घेरावा कराने के निर्देश दिये हैं।

अपर मुख्य सचिव श्री मण्डल ने पश्चिमी बंगाल के बीरभूमि, वर्धमान, पुरूलिया में किसानों की खेती और चारों ओर फैनसिंग तार का घेरावा का प्रोजेक्टर के माध्यम से प्रस्तुतिकरण किया गया। सूरजपुर जिले में भी किसानों की आर्थिक स्थिति मजबूत कराने है, गरीबों का जीवन-स्तर में सुधार लाना है। सूरजपुर जिले के प्रेमनगर विकासखण्ड अंतर्गत चन्दनगर, विकासखण्ड प्रतापपुर के बांक नदी, महान नदी, पलढ़ा, रामानुजनगर विकासखण्ड के अर्जुनपुर तथा ओड़गी विकासखण्ड के धरसेड़ी का प्रोजेक्टर के माध्यम से किसानों के खेतों को विकसित कराने प्रस्तुतिकरण किया गया। किसानों के खेतों को डबरी, कुआं, तालाब तथा सोलर पंप के माध्यम से विभिन्न फसलों का उत्पादन किया जाना है। समस्त कार्य समय सीमा के अन्दर किया जाना है।

बैठक में कलेक्टर श्री के0सी0 देवसेनापति ने बताया कि जिले में जरूरत मंद लोगों के हित में कार्य किया जाना है, आय बढ़ाने के लिए प्रत्येक किसानों के खेतों में डबरी, कुआं, तालाब मनरेगा से खुदवाकर जल संवर्धन से कृषि कार्य को बढ़ावा देना है, जिससे उनके आय में बढ़ोत्तरी होगी, जीवन-स्तर में सुधार आयेगा एवं जिले की पहचान बनेगी। उन्होंने बताया कि लोक सुराज अभियान के दौरान साढ़े छः हजार किसानों ने कुंआ के लिए आवेदन दिया है, शीघ्र ही कार्य प्रारंभ किया जाना है।

बैठक में मुख्य अभियंता ग्रामीण यांत्रिकी सेवा श्री एस0एन0 पटेल, अधीक्षण अभियंता मनरेगा श्री एस0एन0 श्रीवास्तव, वन मण्डलाधिकारी श्री भानुप्रताप सिंह, ग्रामीण यांत्रिकी सेवा के कार्यपालन अभियंता श्री अजय एक्का, एसडीएम सूरजपुर श्री बिजेन्द्र सिंह पाटले, एसडीएम भैयाथान श्रीमति ज्योति सिंह, एसडीएम प्रतापपुर श्री रवि सिंह सहित समस्त जिलाधिकारी, जनपद पंचायत के सीईओ उपस्थित थे।

Related Articles

Leave a Reply