छत्तीसगढ़

पिथौरा क्षेत्र में प्रतिदिन सैकड़ों की संख्या में मजदूर हो रहें पलायन

सोनू सेन:

पिथौरा: पिथौरा विकास खण्ड अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्रों में प्रतिदिन सैकड़ों की संख्या में मजदूर पलायन हो रहे हैं। मजदूर दलालों के द्वारा गांव गांव जैसे कुछ चिन्हाकित ग्रामों से एवम जगह देख कर बस या खुली गाड़ी में उनको व्यवस्था करा कर रात में दिन में बैठाया जाता है

जैसे हाइवे रोड टोल के किनारे बसे ग्रामो से पलायन के लिए इकठा करके भेजा जाता है मजदूरों को एडवांस की राशि ऐसे कई स्थान है जहाँ ऑफिस खोल कर खुले में पर्ची काट कर पैसा दिया जा रहा है पिथौरा थाने के चारों दिशा में ऑफिस संचालित कर पर्ची एवम डायरी बना कर दिया जा रहा है, और पैसा देकर अन्य राज्यों मे पलायन कराने मे प्रमुख भूमिका निभा रहे हैं।

मजदूरों को ईट भट्ठा दलालों के द्वारा काफी मात्रा मे पैसा देने का लालच देकर पलायन कराते हैं और ईट भट्ठा मालिकों के सुपुर्द कर दिया जाता है। ईट भट्ठा मालिकों के द्वारा मजदूरों से जानवरों के जैसे काम लिया जाता है और यातनाये दी जाती है। आखिर इसका जिम्मेदार कौन है।

काम नहीं कर पाने से मजदूरों को बनाया जाता है बंधक

काम नहीं कर पाने से मजदूरों को प्रताड़ित कर बंधक बना लिया जाता है। मजदूर दलाल मजदूर भेजकर गाढ़ी कमाई तो करते हैं परन्तु मजदूर पैसा तो दूर अपने शरीर को कमजोर बना कर आता है।

क्षेत्र मे दलाल सक्रिय हो गए हैं ।शासन प्रशासन को पलायन रोकने मे आवश्यक कदम उठाने चाहिए ताकि पलायन हो रहे मजदूरों को रोका जा सके और मजदूर दलालों के खिलाफ कठोर कार्यवाही की जाये।

उल्लेखनीय है कि विगत चार पांच साल पहले पिथौरा विकास खण्ड के गांव पिथौरा की महिला मजदूर दलाल के माध्यम से उत्तर प्रदेश ईट भट्ठा कमाने गयी थी जो आज तक वापस नहीं आई।शासन प्रशासन के द्वारा् महिला को खोजने का प्रयास तो किया लेकिन सफलता नहीं मिली।

सामने है त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव है इसको देखते हुए प्रशासन को उचित कार्यवाही करना चाहिए ।

Tags
Back to top button