मेरे भीतर जीत की भूख अभी खत्म नहीं हुई: फेडरर

मेरे पास अच्छी टीम है जिसकी वजह से यह संभव हुआ

मेरे भीतर जीत की भूख अभी खत्म नहीं हुई: फेडरर

उम्र को धता बताकर बीसवां ग्रैंडस्लैम खिताब जीतने वाले रोजर फेडरर ने कहा कि वह नहीं जानते कि कब तक टेनिस खेलते रहेंगे, लेकिन उनके भीतर जीत की भूख अभी खत्म नहीं हुई है। स्विटजरलैंड के इस 36 वर्षीय खिलाड़ी ने छठा आस्ट्रेलियाई ओपन और कैरियर का 20वां ग्रैंडस्लैम कल फाइनल में मारिन सिलिच को हराकर जीता। पिछले साल उन्होंने फाइनल में रफेल नडाल को हराया था ।

नहीं जानता कि कब तक खेलूंगा
यह पूछने पर कि वह कितने समय तक और पुरूष टेनिस पर अपनी बादशाहत कायम रखेंगे, उन्होंने कहा , मैं नहीं जानता। ईमानदारी से कहूं तो बिल्कुल नहीं जानता ।उन्होंने कहा , मैने पिछले 12 महीने में तीन ग्रैंडस्लैम जीते हैं। खुद पर यकीन नहीं होता। मेरे भीतर जीत की भूख अभी खत्म नहीं हुई है । उन्होंने कहा उम्र कोई मसला नहीं है, वह फखत एक आंकड़ा है । लेकिन मुझे सोच समझकर अपनी प्राथमिकताएं तय करके खेलना है ।

फेडरर ने कहा , मैं हर टूर्नामेंट नहीं खेल सकता। लेकिन मुझे अभ्यास में मजा आता है और सफर में भी। मेरे पास अच्छी टीम है जिसकी वजह से यह संभव हुआ । उन्होंने कहा ,यह देखकर अच्छा लगता है कि मेरे माता पिता को मुझ पर गर्व है । उन्हें टूर्नामेंट देखने आना अच्छा लगता है। इससे मुझे और अच्छा खेलने की प्रेरणा मिलती है ।

advt
Back to top button