राष्ट्रीय

चक्रवात के रूप मे तितली तूफान, अब ओडिशा-आंध्र मे खतरा

स्कूल, कॉलेज और आंगनबाड़ी केंद्रों को बंद रखने का आदेश

नई दिल्ली :

बंगाल की खाड़ी में अपना अपना खौफ फैलाने के बाद अब तितली तूफान चक्रवात का रूप धारण कर ओडिशा-आंध्र प्रदेश मे अपना आतंक मचाने के लिए आ रही हैं । जिसके चलते ओडिशा में दो दिनों तक भारी बारिश का अलर्ट जारी कर दिया गया। सरकार ने स्कूल, कॉलेज और आंगनबाड़ी केंद्रों को बुधवार से बंद रखने का आदेश दे दिया है।

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा कि बंगाल की खाड़ी पर चक्रवाती तूफान पिछले छह घंटे में आठ किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से पश्चिम-उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ा। आईएमडी के मुताबिक तितली ओडिशा में गोपालपुर से करीब 530 किलोमीटर दक्षिण पूर्व में और आंध्र प्रदेश में कलिंगपट्नम से 480 किलोमीटर पूर्व-दक्षिण पूर्व में है।

भुवनेश्वर में मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक एच आर विश्वास ने कहा कि अगले 24 घंटे में यह तीव्र चक्रवाती तूफान में बदल सकता है और कुछ समय के लिए पश्चिम-उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ सकता है।

जिसके बाद यह उत्तर पश्चिम की ओर बढ़कर 11 अक्टूबर को सुबह के आसपास गोपालपुर तथा कलिंगपट्नम के बीच ओडिशा और उससे लगे उत्तरी आंध्र प्रदेश के तटीय इलाकों को पार कर सकता है। इसके बाद यह उत्तर पूर्व की ओर जा सकता है और तटीय ओडिशा से पश्चिम बंगाल के गंगा क्षेत्र से गुजरते हुए धीरे-धीरे कमजोर हो सकता है।

इसके प्रभाव में दक्षिण तटीय ओडिशा के गजपति, गंजाम, पुरी और जगतसिंहपुर जिलों के कुछ स्थानों पर बुधवार से भारी बारिश हो सकती है। इनके अलावा बुधवार और वीरवार से गंजाम, गजपति, पुरी, जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, खुर्दा, नयागढ़, कटक, जाजपुर, भद्रक और बालासोर जिलों में भारी से बहुत भारी बारिश हो सकती है।

आईएमडी ने 11 अक्टूबर से कंधमाल, बौध तथा ढेंकानाल जिले में भी भारी से अत्यंत भारी बारिश का पूर्वानुमान व्यक्त किया है। बारिश के साथ 40 से 50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं। ओडिशा सरकार को भी संभावित बाढ़ के हालात के मद्देनजर सतर्क कर दिया गया है।

Summary
Review Date
Reviewed Item
चक्रवात के रूप में तितली तूफान, अब ओडिशा-आंध्र मे खतरा
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags