हैदराबाद गैंगरेप: सीएम ने फास्ट ट्रैक कोर्ट स्थापित करने का किया फैसला

सभी आरोपी को तेलंगाना के नारायणपेट जिले से किया गया गिरफ्तार

हैदराबाद: तेलंगाना के हैदराबाद में महिला डॉक्टर के गैंगरेप और हत्या के मामले में शनिवार को सरकार ने एक्शन लेते हुए मामले में कोताही बरतने वाले एक एसआई समेत 3 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया. साइबराबाद के पुलिस कमिश्नर वीसी सज्जनार ने मीडिया को यह जानकारी दी.

वहीं तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने अफसरों को निर्देश दिया है कि हैदराबाद महिला डॉक्टर के घिनौने कत्ल के अभियुक्तों से जल्द से जल्द पूछताछ की जाए और दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दी जाए. सीएम ने मामले से निपटने के लिए एक फास्ट ट्रैक कोर्ट स्थापित करने का भी फैसला किया.

साइबराबाद पुलिस कमिश्नर वीसी सज्जनार ने कहा, “27-28 नवंबर की दरम्यानी रात को एक महिला के लापता होने के मामले में शमशाबाद पुलिस स्टेशन में रिपोर्ट दर्ज देरी से दर्ज की गई.

ड्यूटी में लापरवाही बरतने के मामले में आज विस्तृत जांच की गई. जांच नतीजों के आधार पर, सब इंस्पेक्टर एम. रवि कुमार, हेड कॉन्स्टेबल पी. वेणुगोपाल रेड्डी और हेड कॉन्स्टेबल ए. सत्यनारायण गौड़ को अगले आदेश तक सस्पेंड कर दिया गया है.”

तेलंगाना में पशु चिकित्सक के साथ सामूहिक दुष्कर्म कर उसे बेरहमी के साथ मार देने की वीभत्स घटना को अंजाम देने वाले आरोपियों की पहचान ट्रक चालक मोहम्मद आरिफ, ट्रक चालक चिंताकुंता चेन्नाकेशावुलू, क्लीनर जोलु शिवा और जोलु नवीन के तौर पर हुई है. आरिफ की उम्र 26 साल है, जबकि बाकी तीनों आरोपियों की उम्र 20 साल है.

इन सभी को तेलंगाना के नारायणपेट जिले से गिरफ्तार किया गया है. आगे की जांच और घटनाक्रम जानने के लिए पुलिस इन आरोपियों को शुक्रवार रात घटनास्थल पर लेकर गई थी और उनके बयान दर्ज किए थे. आगे की पूछताछ के लिए उन्हें हिरासत में रखा गया है.

Back to top button