टीवीमनोरंजन

मैं पागलख़ाने में था, बाहर आने में किसी ने नहीं की मदद – सिद्धार्थ

कॉमेडियन सिद्धार्थ सागर की मिस्ट्री केस उलझता ही जा रहा है | सिद्धार्थ ने वीडियो जारी कर यह तो बता दिया है वो सुरक्षित हैं, लेकिन पिछले 4 महीने से वो कहां थे, इस पर सस्पेंस बना हुआ है.

कॉमेडियन सिद्धार्थ सागर की मिस्ट्री केस उलझता ही जा रहा है | सिद्धार्थ ने वीडियो जारी कर यह तो बता दिया है वो सुरक्षित हैं, लेकिन पिछले 4 महीने से वो कहां थे, इस पर सस्पेंस बना हुआ है. एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा है कि वो पागलखाने में थे.

उन्होंने कहा कि मैंने लोगों से कहा कि मेरे शुभचिंतकों को वो बताएं कि मैं पागलखाने में हूं, लेकिन किसी ने मेरी मदद नहीं की. उन्होंने कहा कि उन्हें कोई लड़की कोई टैबलेट देती थी, जिसके बाद मैं अपना मानसिक संतुलन खोने लगता था. वो जल्द मीडिया के सामने आकर अपनी पूरी बात रखेंगे.

उन्होंने यह भी बताया कि मैं पागलखाने में भर्ती था. मेरा परिवार जायदाद के विवाद में फंसा था. मैंने पागलखाने में देखा कि मरीजों को शॉक ट्रीटमेंट दिया जाता है. मैं डिप्रेशन में जा रहा था. किसी को नहीं पता कि मैं अभी कहां हूं, लेकिन मैं अभी जिन लोगों के साथ रह रहा हूं, उन्होंने इस ट्रॉमा से निकलने में मेरी मदद की है.

द कपिल शर्मा शो में नजर आ चुके कॉमेडियन सिद्धार्थ सागर का पिछले 4 महीनों से कुछ पता नहीं चल रहा था. सिद्धार्थ के बारे में कोई जानकारी न मिलता देख उनकी दोस्त सोमी सक्सेना ने अपने फेसबुक पेज पर उनके मिसिंग होने की जानकारी दी थी.

उन्होंने अपने परिवार और कुछ रिश्तेदारों के खिलाफ एनसी दर्ज की थी, लेकिन जब वो पागलखाने में थे तो उन्होंने वो एनसी गायब कर दी. सिद्धार्थ ने कहा कि मुझे धीरे-धीरे एहसास हुआ कि मेरे पेरेंट्स मेरे खिलाफ नहीं थे. उन्हें बस पैसे चाहिए थे.

उन्होंने अपने फेसबुक पर लिखा था- आप लोगों को याद है सिद्धार्थ सागर उर्फ सेल्फी मौसी उर्फ नसीर. ये शख्स पिछले 4 महीनों से लापता है. ये अंतिम बार 18 नवंबर 2017 को दिखा था. कोई नहीं जानता वो कहां हैं. वो मेरे बहुत अच्छे दोस्त हैं. प्लीज उन्हें ढूंढ़ने की कोशिश करिए. इस खबर को जितना हो सके, उतना फैलाइए. हालांकि सोमी ने बाद में ये पोस्ट डिलीट कर दिया था.

Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.