ICC के इस नए नियम ने बढ़ाई विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी की मुश्किलें

नई दिल्ली: पूर्व भारतीय कप्तान व विकेकीपर महेंद्र सिंह धोनी विकेट के पीछे से विरोधी टीम के बल्लेबाजों को गेंद कलेक्ट करने के बाद स्टंप उड़ाने का झूठा नाटक करके डराते रहते थे. लेकिन अब ऐसा करना एमएस धोनी के लिए मुसीबत बन सकता है. आईसीसी ने 28 सितंबर से क्रिकेट के कई नियमों में बदलाव कर दिया है. ‘फेक फील्डिंग’ से जुड़ा एक नया नियम 41.5 आया है जिस पर सबसे ज्यादा चर्चा हो रही है. इस नियम की वजह से ऑस्ट्रेलिया के एक घरेलू क्रिकेट टूर्नामेंट में एक क्रिकेटर पर पेनल्टी लगाई जा चुकी है. अब इस नियम की वजह से पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. उधर, पूर्व भारतीय क्रिकेटर संजय मांजरेकर ने इस नियम पर ICC से फिर से विचार करने के लिए कहा है.

‘फेक फील्डिंग’ से जुड़ा आईसीसी का नया नियम 41.5 कहता है, “बल्लेबाज द्वारा गेंद खेले जाने के बाद, ‘फील्डर द्वारा जानबूझकर, शाब्दिक या क्रियात्मक रूप से, बल्लेबाज का ध्यान भटकाना या उसके लिए बाधा उत्पन्न करना नियम विरुद्ध माना जाएगा.” यदि मैदानी अंपायर तय करते हैं कि ऐसा अवरोध जानबूझकर किया गयाहै तो बैटिंग करने वाली टीम को 5 रन दिए जा सकते हैं.

पूर्व भारतीय क्रिकेटर संजय मांजरेकर ने इस नियम पर ICC पर आपत्ति जताई. उन्होंने एक के बाद एक कई ट्वीट करके आईसीसी से इस नियम पर पुनर्विचार करने का अनुरोध किया.

संजय मांजरेकर ने ट्वीट के जरिए कहा, ‘फेक फील्डिंग के लिए पांच पेनल्टी रन देना अभी लागू हुए क्रिकेट के नए नियमों में सबसे हास्यास्पद है. ICC से इस पर फिर से विचार करने का आग्रह करता हूं.’

मांजरेकर ने आगे कहा, ‘बैटिंग करने वाले टीम पर भी 5 रन की पेनल्टी लगाना कैसा रहेगा, यदि कोई बैट्समैन फेक स्टेप आउट करने की कोशिश करता है. क्या ये बॉलर को भ्रमित करना नहीं होगा. फेक फील्डिंग लॉ को हटाना चाहिए.’

हालांकि जर्नलिस्ट और आईसीसी के पूर्व मीडिया हेड ब्रायन मुर्गत्रोयोड ने माजरेकर को जवाब देते हुए लिखा, “ध्यान रखें कि ये एक नियम है, जिसे MCC (मेलबर्न क्रिकेट क्लब) लेकर आया था और फिर ICC ने भी इसे लागू किया. मुझे ये पसंद है, जब प्लेयर मैच में चीटिंग की कोशिश करता है.”

इस पर मांजरेकर ने जवाब देते हुए धोनी का जिक्र किया. उन्होंने कहा, “चीटिंग? नहीं ये ट्रिक होती है. जैसे धोनी बॉल पकड़कर उसे स्टम्प्स पर थ्रो करने का दिखावा करते हैं. ये सराहनीय है, ना कि इस पर पेनल्टी लगनी चाहिए.”

हालांकि मांजरेकर ने स्पष्ट किया ये मेरे निजी विचार हैं. उन्होंने कहा कि इस संबंध में मैंने आईसीसी को भी लिखा है. अब देखना है कि आईसीसी इस मांजरेकर के पत्र का क्या जवाब देती है.

1
Back to top button