बिज़नेसराष्ट्रीय

आईसीआईसीआई बैंक-वीडियोकॉन: पूर्व सीईओ चंदा कोचर का पति गिरफ्तार

दीपक कोचर को जांच एजेंसी ने प्रिवेंशन ऑफ मनी लांड्रिंग एक्ट के तहत गिरफ्तार किया

नई दिल्ली: आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व सीईओ चंदा कोचर के पति दीपक कोचर को गिरफ्तार किया है। दीपक कोचर को जांच एजेंसी ने प्रिवेंशन ऑफ मनी लांड्रिंग एक्ट के तहत गिरफ्तार किया है। यह मामला वीडियोकॉन ग्रुप को बैंक लोन देने में कथित अनियमितताओं और मनी लांड्रिंग की जांच से जुड़ा है।

इस साल जनवरी में ईडी ने चंदा कोचर, दीपक कोचर और उनके स्वामित्व व नियंत्रण वाली कंपनियों की 78.15 करोड़ रुपये की चल-अचल परिसंपत्तियों को भी जब्त कर लिया था। इनमें तमिलनाडु और महाराष्ट्र स्थित फ्लैट, जमीन, नकदी, मशीनें एवं संयंत्र शामिल हैं।

मालूम हो कि वीडियोकॉन ग्रुप ऑफ कंपनीज को गैरकानूनी तरीके से 1,875 करोड़ का कर्ज मंजूर करने के लिए दर्ज की गई एफआइआर के आधार पर ईडी ने पीएमएलए के तहत मामला दर्ज करके जांच शुरू की थी।

दीपक कोचर की यह गिरफ्तारी ईडी ने वीडियोकॉन ग्रुप के प्रमुख वेणुगोपाल धूत को आईसीआईसीआई बैंक की ओर से 3250 करोड़ रुपये का लोन दिए जाने के मामले में की है। इस मामले में यह पहली बड़ी गिरफ्तारी है।

ईडी आईसीआईसीआई बैंक द्वारा वीडियोकॉन समूह को दिए गये ऋण मामले में अनियमितता और मनी लॉन्ड्रिंग मामले में चंदा कोचर, उनके पति दीपक कोचर और कई अन्य के खिलाफ जांच कर रही थी।

ईडी के मुताबिक, जांच में पता चला कि चंदा कोचर की अध्यक्षता वाली समिति द्वारा वीडियोकॉन इंटरनेशनल इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड को स्वीकृत किए गए 300 करोड़ रुपये के कर्ज में से 64 करोड़ रुपये आठ सितंबर, 2009 को दीपक कोचर के स्वामित्व वाली नूपावर रिन्यूएबल्स प्राइवेट लिमिटेड में स्थानांतरित किए गए थे। वीडियोकॉन ने यह रकम कर्ज मंजूर होने के एक दिन बाद स्थानांतरित की थी। इसके बाद इस रकम से दीपक कोचर की कंपनी ने 10.65 करोड़ रुपये का राजस्व अर्जित किया था।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button