छत्तीसगढ़

द्वितीय एवं चतुर्थ गुरूवार को जिला मेडिकल बोर्ड, दिव्यंगों के लिए बनेंगे पहचान पत्र

मनीष शर्मा:

मुंगेली: भारत सरकार द्वारा दिव्यांगजनों को केवल एक पहचान पत्र के माध्यम से समस्त शासकीय योजनाओं का लाभ देने का लक्ष्य रखा गया है। दिव्यांगजन द्वारा अपना आधार कार्ड एवं दिव्यांगता प्रमाण पत्र प्राप्त करने पर उनके लिए विशिष्ट दिव्यांगता पहचान पत्र (यू.डी.आई.डी.) समाज कल्याण विभाग द्वारा जारी किया गया है। अपना विशिष्ट दिव्यांगता पहचान पत्र प्राप्त करने के पश्चात किसी भी शासकीय योजना का लाभ लेने के लिए आधार कार्ड एवं दिव्यांगता प्रमाण पत्र की आवश्यकता नहीं होती है।

शासकीय जिला अस्पताल रामगढ़ मुंगेली में प्रत्येक माह के द्वितीय एवं चतुर्थ गुरूवार को जिला मेडिकल बोर्ड द्वारा दिव्यांगजनों को दिव्यांग प्रमाण पत्र जारी किया जाता है साथ ही साथ दिव्यांग प्रमाण पत्र के आवेदन में विशिष्ट दिव्यांगता पहचान पत्र (यू.डी.आई.डी.) का आवेदन करना अनिवार्य होता है।

अर्थात एक ही समय में दिव्यांगजनों का दो कार्यो की (दिव्यांग प्रमाण पत्र एवं विशिष्ट दिव्यांगता पहचान पत्र) प्रक्रिया पूरी की जाती है। उपसंचालक समाज कल्याण द्वारा मुंगेली जिले के दिव्यांगजनों को सूचित किया गया है कि प्रत्येक माह के द्वितीय और चतुर्थ गुरूवार को शासकीय जिला अस्पताल रामगढ़ मुंगेली में अपने आधार कार्ड/पहचान पत्र, दिव्यांगता दर्शाने वाले पासपोर्ट साईज के 02 फोटो एवं मोबाईल नम्बर के साथ जिला मेडिकल बोर्ड के समक्ष उपस्थित होने के लिए कहा गया है।

Tags
Back to top button