हेल्थ

इडली सिर्फ खाने में ही स्वादिष्ट नहीं, फायदे जानकर दंग रह जाएंगे आप

नई दिल्ली: दक्षिण भारत का प्रमुख व्यंजन इडली अब देशभर के अधिकतर लोगों की डाइट में शामिल हो गया है. अगर पौष्टिक नाश्ते की बात की जाए तो इडली का नाम इस लिस्ट में सबसे ऊपर आता है. स्मार्ट ब्रेकफास्ट के इस दौर में हर कोई कॉर्नफ्लेक्स, ओट्स आदि भी लोगों के डाइट में शामिल है लेकिन अगर आप इसे रोज खाकर ऊब गए हैं तो इडली के रूप में आपके पास एक अच्छा विकल्प है. इडली और सांभर या इडली और चटनी खाने में ना सिर्फ स्वादिष्ट है बल्कि इसके अनगिनत फायदे भी हैं जो आपके स्वास्थ्य के लिहाज से बेहद महत्वपूर्ण है. अगर आप भी करना चाहते हैं.

प्रो़टीन का अच्छा स्रोत : इडली चावल और उड़द दाल से मुख्य रूप से बनाई जाती है जो प्रोटीन का अच्छा स्रोत माना जाता है. इसके अलावा इडली में कार्बोहाइड्रेट भी पाया जाता है जो आपके शरीर के लिए फायदेमंद होता है. इडली एक ऐसा भोजन है जिसे आप सुबह के नाश्ते या रात के डिनर में भी कर सकते हैं.

सुपाच्य भी : इडली उड़द दाल और चावल से बनाई जाती है. इसके अलावा इसमें बनाने से पहले खमीर भी उठाया जाता है इसमें किसी तरह के तेल मसालों का इस्तेमाल नहीं किया जाता है जिस वजह से ये काफी आसानी से पच जाता है. ब्लड प्रेशर, दिल की बीमारी या हर तरह के रोगों में स्वास्थ्य के लिए यह फायदेमंद है.

लो कैलोरी : इडली को बनाने में भाप का इस्तेमाल किया जाता है इसलिए इसमें कैलोरी की मात्रा बहुत ही कम होती है. एक मध्यम आकार की इडली में लगभग 40 कैलोरी होती है । इसमें ना तो कोलेस्ट्रॉल पाया जाता है और ना ही सैचुरेटेड फैट इसलिए इसे खाना काफी लाभकारी होता है.

ब्लड प्रेशर को करती है कंट्रोल : अगर आप ब्लड प्रेशर की समस्या से जूझ रहे हैं तो भी इडली आपके लिए काफी फायदेमंद हो सकता है. इडली में सोडियम बहुत ही कम मात्रा में पाया जाता है. एक मध्यम आकार इडली में लगभग 65 मिलिग्राम सोडियम होता है इसलिए स्वास्थ्य के लिहाज से यह काफी लाभकारी है.

बनाने की विधी भी है फायदेमंद : इडली को भाप से बनाने की वजह से चावल के सारे फैट खत्म हो जाते हैं. इडली में उतने ही फैट बच जाते हैं जितना आपको अपनी डाइट में शामिल भी करना चाहिए.

एमिनो एसिड का भी अच्छा स्त्रोत : इडली एमिनो एसिड का भी अच्छा स्रोत माना जाता है. आपको बता दें कि एमिनो एसिड शरीर के लिए बेहद आवश्यक होते हैं. एमिनो एसिड कई प्रकार के होते हैं और ये मस्तिष्क से लेकर शरीर के हर अंग के फंक्शन के लिए फायदेमंद होते हैं।

फाइबर भी है मौजूद : जैसा कि हमने आपको पहले बताया कि इडली में उड़द दाल का इस्तेमाल किया जाता है और उड़द दाल फाइबर का बहुत ही अच्छा स्रोत माना जाता है इसलिए इडली आपके स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है.

इडली बनाने की विधि : सामग्री – उड़द दाल, चावल, नमक स्वादानुसार, तेल (सिर्फ ग्रीसिंग के लिए) इडली स्टैंड

विधि
चावल और उड़द दाल को पहले गर्म पानी में 4-5 घंटों के लिए भिगो लें.
इसे निकालकर पीस लें और पेस्ट बना लें.
रात भर ढक कर रख दें और जिससे खमीर उठ जाएंगे.
बनाने से पहले इसमें नमक स्वादानुसार मिला लें.
इडली मोल्ड में हल्का तेल लगाएं और इसमें पेस्ट को डालें.
15-18 मिनट तक इसे स्टीम होने दें.
अब निकालकर इसे चटनी के साथ परोसें.

Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.