मनोरंजन

अगर टिकना है तो नकल नहीं, असल करना जरूरी है: लता मंगेशकर

शोज में गाने वाले बच्‍चों के लिए भी अपनी चिंता जतायी

नई दिल्‍ली:बॉलीवुड की स्‍वर कोकिला कहलाने वाली लता मंगेशकर ने सिंगिंग क्वीन कही जाने वाली रानू मंडल की सफलता पर बयान देते हुए कहा कि ‘आप मेरे या मेरे साथियों के गाने गाओ लेकिन एक समय के बाद आपको अपने खुद के गाने और खुद का अंदाज विकसित करना ही चाहिए.’

उन्‍होंने सिंगिंग रिएलिटी शोज में गाने वाले बच्‍चों के लिए भी अपनी चिंता जतायी. उन्‍होंने कहा कि कई बच्‍चे ऐसे शो में मेरे गाने बहुत अच्‍छे गाते हैं लेकिन उन्‍हें पहली सफलता के बाद कितना याद किया जाता है. मुझे सिर्फ सुनिधी चौहान और श्रेया घोषाल ही याद हैं.’ ऐसे में लता जी ने उभरते हुए गायकों को सलाह दी कि वह असल होने पर ध्‍यान दें.

उन्होने आगे कहा कि ‘अगर मेरे नाम और काम से किसी का भला होता है तो मैं अपने आप को खुशकिस्‍मत समझती हूं. लेकिन मुझे लगता है कि किसी की नकल करके आप लंबे समय तक की सफलता नहीं पा सकते. मेरे गाने या किशोर कुमार, रफी साहब या मुकेश भईया के गाने गाकर उभरते हुए गायक सिर्फ थोड़े समय की अटैंशन पा सकते हैं, लेकिन सफलता टिकने वाली नहीं होगी.’

Tags
Back to top button