विकास होता तो नक्सल प्रभावित क्षेत्र इतना नहीं बढ़ पाता : भूपेश

चरण पादुका को लेकर भी साधा निशाना

विकास होता तो नक्सल प्रभावित क्षेत्र इतना नहीं बढ़ पाता : भूपेश

रायपुर : देश के 44 जिलों में नक्सल समस्या खत्म होने की बात को लेकर एक बार फिर कांग्रेस ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह को घेरने का प्रयास किया है.

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने कहा कि कांग्रेस सरकार के समय दक्षिण बस्तर में कुछ ब्लाको में जो नक्सल समस्या थी वो बढ़कर पूरे बस्तर को और अब मुख्यमंत्री के गृह जिले कवर्धा तक नक्सल प्रभावित जिलों में शामिल हो चुका है।

यह रमन सरकार की नक्सल नीति की बड़ी असफलता है। रमन सिंह जो विकास के मॉडल की बात करते है, यदि विकास होता तो नक्सल प्रभावित क्षेत्र इतना नहीं बढ़ पाता।

भूपेश ने कहा कि ये मुख्यमंत्री रमन सिंह की घोर असफलता है। प्रधानमंत्री जी भी आये थे और नये नयी रेल का उदघाटन किया, लेकिन आज पुरानी रेल चल रही है। मंच में जिस ढ़ंग से आदिवासी महिला को चरण पादुका पहनाया गया इसे नरेन्द्र मोदी जी दिल्ली से नही लाये थे ना रमन सिंह के सरकार ने इसे दिया है।

ये तो उन्हीं तेंदुपत्ता तोड़ने वालों की मेहनत का पैसा है जो उन्होंने तेंदुपत्ता तोड़ा उसका पैसा है जिसे सरकार अपने खजाना में रखकर ब्याज खाती है। मजदूर ही मेहनत के बोनस के पैसे से ही चरण पादुका खरीदी गयी जिसे उसे पहनाया गया।

ये केवल ढकोसला दिखावा मात्र और जिस प्रकार से वहां कार्यक्रम आयोजित हुआ है बीजापुर में वो सारे जितने उदघाटन किये थे सारे के सारे बंद है। ना उनसे क्षेत्र को कोई लाभ नहीं मिल पा रहा है न लोगो को लाभ मिल पा रहा है और सब ठप्प है।

Back to top button