मुख्य द्वार के सामने ना रखे किचन नहीं तो बढ़ सकता है तनाव

रसोई में नहा कर ही जाना चाहिए

जीवन रूपी गाड़ी को अच्छे से चलाने के लिए शरीर का स्वस्थ होना बहुत जरूरी है। जिसके लिए हम घर में अक्सर नए बदलाव करते हैं।

इसके साथ घर में रसोई का स्थान सबसे अहम होता है। क्यों कि कहते हैं कि रसोई में लक्ष्मी का वास होता है।

किचन पूरी तरह से साफ-सुथरा और वास्तु की दृष्टि से बना होना चाहिए। वास्तु दोष होने से हमेशा अशुभ प्रभाव बना रहता है।

किचन कैसा होना चाहिए, कौन सी वस्तु कहां पर रखी जानी चाहिए और किन बातों को हमेशा ध्यान में रखना चाहिए आईए जानें-

रसोई में मंदिर नहीं बनाना चाहिए, इससे घर में तनाव बना रहता है।

भोजन करने से पहले अपने ईष्ट को भोग लगाएं।

एक रोटी के चार टुकड़े करें पहला टुकड़ा अग्नि देव को दूसरा गाय माता को तीसरा पक्षियों और चौथा कुत्ते को देना चाहिए। जिस घर में ऐसा किया जाता है वहां कभी भी दरिद्रता नहीं आती।

घर के मुख्य द्वार के सामने किचन होने से अशुभता आती है।

हमेशा रसोई में नहा कर ही जाना चाहिए, इससे घर में लक्ष्मी का वास होता है।

किचन को सदा साफ रखें, जूठे बर्तन भी रसोई में नहीं होने चाहिए। इससे नकारात्मक ऊर्जा का वास होता है।

रसोई में रेफ्रिजरेटर और माइक्रोवेव जैसी वस्तुएं हमेशा दक्षिण या पश्चिम दिशा में ही रखनी चाहिए। बिजली का सामान ख़राब होने पर उसे ठीक करवाएं या रसोई से बाहर करें।

बाथरूम व किचन एक साथ नहीं होना चाहिए, इससे परिवार में कलह-क्लेश होता रहता है।

गृहिणी को रसोई तैयार करते समय प्रसन्न रहना अति आवश्यक है। तनाव या मानसिक दुविधा की स्थिति में खाना तैयार करने से परिवार के लोगों पर बुरा प्रभाव पड़ेगा तथा सभी चिंतित रहेंगे।

Back to top button