छत्तीसगढ़

3 दिनों में मरवाही में बिजली कटौती बंद नहीं हुई तो मैं आमरण अनशन पर बैठूँगा- अमित अजीत जोगी

ब्यूरो चीफ : विपुल मिश्रा

मरवाही: मरवाही में बिजली कटौती ने विकराल रूप धारण कर लिया है। 24 घंटों में मात्र 2-3 घंटे ही बिजली रहती है।जितना राज्य सरकार का पूरे छत्तीसगढ़ में कोरोना से लड़ने के लिए कुल बजट है, उस से 4 गुना ज़्यादा की तो वो अकेले मरवाही में- मेरे पिता जी के स्वर्गवास के बाद- घोषणाएँ कर चुकी है।

इन चुनावी घोषणाओं का क्या मतलब जब सरकार यहाँ के लोगों को बिजली जैसी मूलभूत सुविधा देने में विफल है? मुख्यमंत्री खुद बिजली विभाग के भी मंत्री हैं लेकिन पिछले 20 सालों में मरवाही में कभी भी इतना अंधेरा नहीं छाया है।

अगर अगले 3 दिनों में मरवाही में बिजली कटौती बंद नहीं होती है तो मैं अपने पारिवारिक शोक- कल ही मेरे बड़े पापा का कोरोना से निधन हुआ है- की सारी रस्मों और होम आयसोलेशन, दोनों को तोड़कर आमरण अनशन पर बैठूँगा।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button