स्त्री का वातसल्य जाग गया तो रक्त भी दूध बन जाता है : साध्वी ऋतंभ

रायपुर: सारी समस्याओं का समाधान है स्त्री का संपूर्ण स्त्रीत्व की पूर्णता को प्राप्त कर लेना। कुटुम्ब की धूरि है नारियां,लेकिन आज भारत की नारियों का मन डोल गया है। भारत की स्त्री होने के अर्थ को समझना होगा। छत्रपति शिवाजी व स्वामी विवेकानंद को भारत की स्त्री ने ही जन्म दिया। जहां सौंदर्य का दर्शन हो वहां जगदंबा की याद आ जाती यह भारत की दृष्टि है। मातृ भाव लेकर भारतीय मन को जगाना होगा,स्त्रीयों को अपनी सत्ता को पहचानना होगा। जब स्त्री का वातसल्य जाग जाता है तो शरीर का रक्त भी दूध बन जाता है।
इंडोर स्टेडियम बूढ़ापारा में शुक्रवार से प्रारंभ हुए त्रिदिवसीय श्री मंगलमानस अनुष्ठान के शाम के सत्र में भारी संख्या में पहुंची महिलाओं की भीड़ को देखकर साध्वी ऋतंभरा ने कहा कि भगवान राम के ननिहाल में देवी कौशल्या स्वरूप पहुंची नारी शक्ति को वे प्रणाम करती हैं और अपने को सौभाग्यशाली मानती हैं कि अंतरराष्ट्रीय परमशक्तिपीठ संस्थान अपनी स्थापना के 25 वर्ष पूर्ण होने पर रजत जयंती वर्ष मना रही है। इस उपलक्ष्य में देश के प्रमुख राज्यों के 25 शहरों में परमशक्ति पीठ की रजत यात्रा पहुंच रही है,इसकी शुरूआत रायपुर से हो रही है। सर्वमंगला देवी की वंदना के साथ उन्होने सत्संग की शुरूआत की। समाज और परिवार की वर्तमान स्थिति को लेकर उन्होने काफी गंभीर बाते कही और उनका सीधे अर्थो में यही कहना था कि स्त्री कुुटुम्ब की धूरि है उन्हे अपनी जिम्मेदारियों को समझना होगा कि वे एक भारतीय स्त्री हैं।

स्तनपान कराया होता तो नहीं बनती चैन स्मोकर
दीदी ऋतंभरा ने कहा कि उन्होने ऐसी-ऐसी महिला चैन स्मोकर को देखा है जिनकी पीते सिगरेट से होंठ जल गई,उन्हे तो तरस आती है ऐसी मां पर, यदि उन्होने जी भरकर स्तनपान कराया होता और वह संतुष्ट हो गई होती तो आज यह दिन नहीं देखने पड़ते।

न बने नारी निकेतन -न बने वृद्धाश्रम
अनाथ को लेकर दंश झेल रहे समाज पर प्रहार करते हुए साध्वी ऋंतभरा ने कहा कि उन्होने फाइव स्टार वृद्धाश्रम में जिंदा लाशों को देखा है। जिस उम्र में वृद्धों को अपने बच्चों के साथ होना चाहिए वे वृद्धाश्रम में होते हैं। बच्चों की गलतियों पर उन्हे अलग न करो, उन्हे संस्कार दो। मां ने अपने आंचल में बहुतों को समेटा है।

मुख्यमंत्री, विधानसभा अध्यक्ष हुए शामिल
श्री मंगलमानस अनुष्ठान में मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह सपत्नीक, विधानसभा अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल, कृषि मंत्री रमशीला साहू, भाजपा प्रदेश प्रभारी अनिल जैन, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष धरमलाल कौशिक, कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल, महापौर प्रमोद दुबे, रामप्रताप सिंह, श्याम बैस, हर्षिता पांडेय, संत युधिष्ठिर सहित शहर के विशिष्टजन भी शामिल हुए। समिति की ओर से रमेश मोदी, विजय अग्रवाल, मनोज कोठारी ने सभी का स्वागत किया। मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ की जनता की ओर से दीदी ऋतंभरा का स्वागत करते हुए विशेष रूप से उनके द्वारा संचालित वात्सल्य ग्राम का जिक्र किया।

Back to top button