सीएम ने जो बातें कहीं उसमें प्रमाण है, नोटिस आएगा, तो जवाब देंगे: ताम्रध्वज साहू

मीडियो से मुखातिब होते हुए गृहमंत्री ने अलग-अलग मुद्दों पर दिया बयान

रायपुर: जम्‍मू-कश्‍मीर के पूर्व मुख्‍यमंत्री उमर अब्‍दुल्‍ला के मामले में मुख्यमंत्री भूपेश का पक्ष लेते हुए सूबे के गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा कि सीएम ने जो बातें कहीं है उसमें प्रमाण है. नोटिस आएगा, तो जवाब देंगे.

<h3सीएम की कही बातों में प्रमाण है>

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला के बीच चल रहे ट्विटर वार पर गृहमंत्री साहू ने कहा कि कई आंतरिक चीजें होती है. मुख्यमंत्री ने जो बातें कही है, वो पूरी जानकारी और प्रमाण से कहा है. अगर कोई नोटिस उमर अब्दुल्ला की तरफ से आया, तो सीएम उसका भरपूर जवाब देंगे.

बता दें कि राजस्थान कांग्रेस के साथ सचिन पायलट की बगावत को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. फारूक अब्दुल्ला और उमर अब्दुल्ला की रिहाई से जोड़ते हुए ट्वीट किया था. जिसके बाद से ट्विटर वार चल रहा है.

उमर ने कहा है कि मेरी और मेरे पिता की रिहाई से जोड़ना गलत और दुर्भाग्यपूर्ण है. मैं इन आरोपों से तंग आ गया हूं. अब बहुत हुआ. भूपेश बघेल अपने सवालाें का जवाब मेरे वकीलों से पाएंगे.

बीजेपी केंद्र से करें राहत पैकेज की मांग

गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने कोरोना के बढ़ते मामले पर भाजपा की ओर से लगातार सवाल खड़े करने पर पलटवार करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री के लॉकडाउन के घोषणा के पहले मुख्यमंत्री ने लॉकडाउन की घोषणा छत्तीसगढ़ में की थी.

छत्तीसगढ़ पहला राज्य है जिसने सख्ती से कदम उठाया. उसका परिणाम भी सार्थक रहा. प्रवासी मजदूरों के आने से पहले संख्या 10 तक ही पहुंची थी. भाजपा को पीएम मोदी से प्रदेश में कोरोना को लेकर अधिक से अधिक सुविधाएं और पैकेज उपलब्ध कराने की मांग करना चाहिए. 20 लाख करोड़ के हवाई फायर का कोई फायदा नहीं हुआ.

लॉकडाउन से रुकेगी संक्रमण की रफ्तार

उन्होंने कहा कि एम्स की तरह हमारे जिला अस्पतालों में सुविधाओं के लिए भी कोई पैकेज दे या दवाई और दूसरे संसाधन ही दे दें. लॉकडाउन लगाने से संक्रमण का चक्र रुकता है, यह सभी जानते है.

रायपुर में अचानक जो संख्या बढ़ा है, लॉकडाउन से इसमें रोक लगेगा, इसलिए लॉकडाउन आवश्यक है. कलेक्टरों को निर्देशित किया गया है कि वो जिले में देखे की संक्रमण कहा बढ़ रहा है. पूरे प्रदेश के लिए एक नियम लागू नहीं है.

ऑपरेशन से बैखलाए नक्सली

बस्तर में कई नक्सल प्रभावित इलाकों में नक्सलियों की ओर से पर्चे फेंके जाने और हाल की घटनाओं पर गृह मंत्री ने कहा कि सरकार के कामकाज और ऑपरेशन से नक्सलियों में भय है और जनता भी जागरूक हुई है.

इसीलिए नक्सली बौखलाहट में है. डेढ़ वर्षो में सर्वाधिक नक्सली मारे गए है. काफी नक्सलियों ने सरेंडर किया है. इसके कारण नक्सलियों में भय है, वो चाहते है कि ऐसा न हो. रोक लगाने के दृष्टिकोण से भय का वातावरण बनाने के लिए ऐसा प्रयास कर रहे है. वहां की जनता अब जागरुक हो चुकी है. अंदर तक हम घुस रहे है.

पुलिस विभाग ने दी सर्वाधिक ड्यूटी

प्रदेश में पुलिसकर्मियों के लगातार संक्रमित होने पर गृहमंत्री साहू ने कहा जब लॉकडाउन शुरू हुआ था, तब पुलिस विभाग को सर्वाधिक ड्यूटी देनी पड़ी. इसलिए संक्रमण आया है. इसका इलाज सिर्फ सावधानी है. सावधानी बरती जा रही है.

गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने पुलिस लाइन में रक्तचंदन पौधा लगाने के बाद कहा कि पुलिस लाइन में एक छोटा से वृक्षारोपण का कार्यक्रम रखा गया था. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देश पर त्रिस्तरीय कार्यकम रखा गया.

इसलिए खुद एक फलदार वृक्ष लगाया गया. इसी परिप्रेक्ष्य में पूरे प्रदेश में अलग-अलग जगहों पर इस तरह के कार्यक्रम किए जा रहे है. इस दौरान महापौर एजाज ढेबर, आईजी आनंद छाबड़ा और एसएसपी अजय यादव मौजूद रहे.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button