अगर आप भी पीलिया से बचाव के लिए पीते हैं गन्ने का रस तो इस वजह से हो सकता है जहर

रायपुर। गर्मी के समय अक्सर लोगों को पीलिया जैसी बीमारियों की शिकायत होने लगती है। पीलिया की वजह से खून में कमी और शरीर में कमजोरी आने लगती है। पीलिया होने से पाचन तंत्र में कमी भी आने लगती है। इसलिए पीलिया के मरीजों को डॉक्टर अक्सर गन्ने का रस पीने की सलाह देते हैं। लेकिन अगर कहीं यहीं गन्ने का रस आपके लिए जहर बन जाए तो आप क्या करेंगे?

आजकल गन्ने के रस में इस्तेमाल किए जाने वाले बर्फ में मिलावट की शिकायतें आ रही है। मिली जानकारी के अनुसार गन्ने के रस में इस्तेमाल होने वाला बर्फ दूषित पानी से बनाया जा रहा है। जिसे पीकर लोग बीमार हो रहे हैं। दूषित पानी से निर्मित होने वाले बर्फ शहर के मछली बाजार में खपाए जाते थे, लेकिन अब ज्यादा पैसों की लालच में इसे गन्ना रस के ठेलों आदि में खपाया जा रहा है।

वायरल हो रही थी न्यूज की मुर्दाघरों के बर्फ का हो रहा इस्तेमाल
उड़ती हुई खबर के अनुसार ज्यादा पैसे कमाने के लिए लोग मुर्दाघरों में इस्तेमाल होने वाले बर्फ को गन्ने के रस के ठेलों में इस्तेमाल कर रहे हैं। पत्रिका ने इस खबर के मिलने के बाद इसकी जांच की और इस खबर को झूठा पाया।

पीलिया को देखते हुए जिला प्रशासन ने बर्फ व आइस्क्रीम फैक्ट्री और गन्ने जूस सेंटरों की जांच के लिए टीम बनाई गई है। सोमवार को एसडी के नेतृत्व में पांच टीम बनाकर जांच के निर्देश दिए हैं। सभी फैक्ट्री और जूस सेंटरों की जांच के लिए प्रतिवेदन देने को कहा है।

इन खबरों के बाद अपनी अच्छी सेहत के लिए आप केवल ताजे गन्ने के रस का सेवन करें। जूस सेंटरों में अपने सामने गन्ने का रस निकलवाएं और जूस में बर्फ से परहेज करें।

Back to top button