टिकट मिलेगा तो चुनाव में खर्च कितना कर पाएंगे : बसपा सुप्रीमो

बिलासपुर।

कांग्रेस की तर्ज पर बहुजन समाज पार्टी ने विधानसभा चुनाव लड़ने वाले दावेदारों से आवेदन मंगाना शुरू कर दिया है। बसपा सुप्रीमो ने दावेदारों से पूछा है कि टिकट मिला तो विधानसभा क्षेत्र में प्रचार प्रसार के दौरान खुद के अलावा समर्थकों के साथ मिलकर कितनी राशि खर्च कर पाएंगे। दावेदारों को यह भी बताना होगा कि जिस विधानसभा सीट से टिकट मांग रहे हैं वहां खुद की जाति के कितने वोट हैं।

बसपा सुप्रीमो सुश्री मायावती ने प्रदेश के सभी 90 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ने का एलान कर दिया है। इस घोषणा के साथ ही रणनीतिकारों ने बसपा की टिकट पर चुनाव लड़ने वाले दावेदारों को परखने का निर्णय लिया है।

बसपा के एक दिग्गज पदाधिकारी की मानें तो विधानसभावार दावेदारों की संख्या के आधार पर आगे की रणनीति बनाई जाएगी । बसपा सुप्रीमो के निर्देश पर प्रदेश बसपा के अध्यक्ष ओपी वाजपेयी ने अपने हस्ताक्षर से प्रदेशभर के जिलाध्यक्षों को बंद लिफाफे में आवेदन पत्र जारी कर दिया है।

एक पन्ने के आवेदन पत्र में दावेदारों की पूरी कुंडली खंगाल ली जाएगी । आवेदन में एक महत्वपूर्ण सवाल के जरिए चुनाव में खर्च करने की क्षमता का अंदाज लगाने की कोशिश की गई है। ऐसे कितने समर्थक हैं जो उनको चुनाव के दौरान आर्थिक रूप से दिल खोलकर मदद कर सकते हैं।

पार्टी में जुड़ाव को लेकर भी सवाल पूछे गए हैं। मसलन बहुजन समाज पार्टी में कब से जुड़े हैं । वर्तमान में संगठन के किसी महत्वपूर्ण पदों पर काबिज हैं तो उसकी जानकारी भी मांगी गई है। आवेदनकतार्ओं को यह भी बताना होगा कि इसके पहले वे कभी कोई चुनाव लड़ा है क्या। अगर चुनाव लड़ा है तो परिणाम क्या रहा ।

कब लड़े और किस राजनीतिक पार्टी के अधिकृत उम्मीदवार की हैसियत से लड़े। प्रदेश अध्यक्ष ओपी वाजपेयी ने सभी जिलाध्यक्षों को आवेदन पत्र जारी करने के साथ ही 27 अगस्त तक दावेदारों से आवेदन लेकर प्रदेश कार्यालय भेजने कहा है। प्रदेश कार्यालय से आवेदनों को बंद लिफाफे में लखनऊ राष्ट्रीय कार्यालय भेजा जाएगा। टिकट का फैसला राष्ट्रीय कार्यालय से होगा ।

-राजनीति के साथ ही सामाजिक हैसियत भी बतानी होगी

जिस विधानसभा सीट से चुनाव लड़ने के लिए टिकट की मांग की जा रही है वहां खुद की राजनीतिक और सामाजिक हैसियत क्या है इसका भी खुलासा करना होगा। समाज में उनकी सक्रियता कितनी है। सामाजिक कार्यक्रमों के अलावा समाज प्रमुखों के बीच उनकी लोकप्रियता है भी या नहीं। इसके अलावा राजनीतिक प्रभाव को भी बताना होगा। ऐसा कोई मौका आया है कि उनकी वजह से क्षेत्र में किसी पार्टी विशेष को महत्व मिला हो ।

-आपराधिक प्रकरण की भी देनी होगी जानकारी

आवेदन पत्र के कॉलम नंबर 12 में पूछा है कि क्या कोई आपराधिक मामला किसी अदालत में विचाराधीन है। यदि है तो उसका विवरण । इसके जरिए आवेदनकतार्ओं की कुंडली बनाने की कोशिश रणनीतिकारों की है। इस बात की भी अटकल लगाई जा रही हैे कि बसपा सुप्रीमो टिकट वितरण के दौरान स्वच्छ छवि के उम्मीदवारों को तव्वजो देंगी ।

बसपा सुप्रीमो के निर्देश पर सभी जिलाध्यक्षों को बंद लिफाफे में आवेदन पत्र दिया गया है। 27 अगस्त तक आवेदन जमा किए जाएंगे। इसके बाद जिलाध्यक्ष प्राप्त आवेदनों को प्रदेश कार्यालय में जमा कराएंगे। यहां से राष्ट्रीय कार्यालय लखनऊ भेजा जाएगा। – ओपी वाजपेयी-प्रदेशाध्यक्ष बसपा,छत्तीसगढ़

Back to top button