कड़ी सुरक्षा के बीच अवैध हथियारों की तस्करी के फिराक में थे ये शख्स,डील पर पुलिस ने फेरा पानी

चुनाव के दिन दिल्ली में हथियारों की खरीद फरोख्त की कोशिश नाकाम,आरोपी गिरफ्तार

नई दिल्ली:राजधानी में हथियारों की तस्करी करने वाले शातिर किस हद तक बेखौफ हैं, इसकी मिसाल हाल ही में उस वक्त देखने को मिली, जब दिल्ली में मतदान हो रहा था. उस दिन दिल्ली की सुरक्षा में करीब एक लाख जवान तैनात थे, जिनमें से 61 हजार तो दिल्ली पुलिस के अपने जवान थे. उस दिन भी दिल्ली में अवैध हथियारों की डील हो रही थी.

चुनाव के दिन दिल्ली में हथियारों की खरीद फरोख्त की कोशिश उस वक्त नाकाम हो गई, जब दिल्ली पुलिस को इस बारे में जानकारी मिल गई. दरअसल, दिल्ली पुलिस को वक्त पर मुखबिर के जरिए डील के बारे में पता चल गया और दिल्ली पुलिस ने सुमित खरब उर्फ लंबू नामक शातिर तस्कर को गिरफ्तार कर लिया.

पुलिस ने सुमित के पास से 4 पिस्टल और एक देसी तमंचा बरामद किया है. हैरानी की बात है कि मतदान दिवस यानी 12 मई के दिन जब दिल्ली के बॉर्डर पर पैरा मिलिट्री फोर्स के जवान तैनात थे, जगह-जगह पुलिस ने बैरिकेट लगा रखे थे, उस दिन सुमित खरब नाम का ये हथियार तस्कर दिल्ली के द्वारका सेक्टर 23 इलाके में हथियारों की सप्लाई करने पहुंचा था.

पुलिस को मुखबिर से पहले ही खबर मिल गई. लिहाजा पुलिस ने ट्रैप लगाकर सुमित खरब को गिरफ्तार कर लिया. सुमित के पास मौजूद बैग से पुलिस ने 4 पिस्टल और देसी तंमचा बरामद किया है. पुलिस के मुताबिक सुमित एक शातिर किस्म का बदमाश है, इस पर दिल्ली के अलावा झज्जर में भी केस दर्ज हैं.

सुमित अभी कुछ दिन पहले ही तिहाड़ जेल से जमानत पर छूट कर बाहर आया था, जेल में सुमित की मुलाकात उत्तर प्रदेश के खुर्जा के रहने वाले एक बड़े हथियारों के तस्कर से हुई थी, उसी ने सुमित से कहा था कि वो ज्यादा पैसा कमाना चाहता है तो उसे हथियारों की तस्करी करनी होगी.

पुलिस के मुताबिक जेल से छूटने के बाद सुमित ने यही धंधा अपना लिया. सुमित अब खुर्जा से अवैध हथियारों की खैप लेकर आता था और दिल्ली के बदमाशों को सप्लाई किया करता था. अब पुलिस शातिर सुमित से पूछताछ कर रही है. पुलिस उसके नेटवर्क में जुड़े तमाम लोगों की जानकारी जुटा रही है.

Back to top button