सोने-चांदी व अस्त्र शस्त्र की लालच को लेकर अवैध खुदाई

तामेश्वर साहू

गरियाबंद।

गरियाबंद, राजिम छुरा प्रमुख मार्ग स्थित माँ रमईपाठ मंदिर प्रदेश सहित समूचा अंचल में निःसंतान दम्पतियों के मनौती पूरी करने को लेकर ख्याति प्राप्त है जो ग्राम सोरिदखुर्द के घने जंगलो में पहाड़ो के बीच स्थापित 8वी शताब्दी की प्राचीन माँ रमईपाठ धाम के नाम से जाना जाता है.

मंदिर परिसर से तक़रीबन 50-60 फिट उपर पहाड़ में समतल मैदान में पुराने जमाने के अस्त्र शस्त्र एवं सोना चांदी जवाहरात को होने की आशंका को लेकर तक़रीबन कुछ दिनों से अवैध खुदाई जारी था.

देर रात पहाड़ी से घन सब्बल के साथ ही बारूद के धमाके की गूंज से ग्रामीण दहसत में थे वही गांव में खबर आग की तरह फैलते ही ग्रामीणों का हुजूम पहाड़ के ऊपर पहुचे तो वह का मंजर ही कुछ और था मौके पर ग्रामीणों ने तत्काल फिंगेश्वर पुलिस को खबर की जिसके चलते पुलिस की तत्परता के चलते बीहड़ वनों के बीच गरियाबंद छुरा मगररोड रायपुर के तक़रीबन 11 लोगो को पुलिस ने अपने हिरासत में लेकर पूछताछ की आरोपिओ ने अपना गुनाह कबुल करते हुए कहा की पहाड़ के उपर पुराने ज़माने के जमीन के निचे सोना चांदी हीरे जवहरात होने की भनक लगते वे रात दिन 24 घंटे बेख़ौफ़ अवैध खुदाई को अंजाम दे रहे थे.

जिसके चलते फिंगेश्वर पुलिस ने आरोपियो के खिलाफ संदेह के दायरे में धारा 109 कायम कर न्यायलय में प्रस्तुत किया है, ग्रामीणों की माने तो उन्होंने धार्मिक पर्यटक स्थल में प्राचीन धरोहर को क्षति पहुचाये जाने के प्रति आक्रोश प्रगट करते हुए कड़ी कार्यवाही की मांग किये है,

Back to top button