अवैध खनन: बी. चंद्रकला ने छापेमारी से 10 दिन पहले ही खरीदी थी यह प्रॉपर्टी

उनका जिक्र 2019 के रिटर्न में नहीं किया गया

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के अवैध रेत खनन मामले में सीबीआई (CBI) की ताबड़तोड़ छापेमारी जारी है. शनिवार को मामले में सीबीआई ने आईएएस अफसर बी. चंद्रकला के घर पर छापेमारी की और तलाशी अभियान चलाया.

इस तलाशी अभियान अभियान में सीबीआई को बी. चंद्रकला के घर बहुत सारे दस्तावेज़ बरामद किए. इन दस्तावेजों में एक दस्तावेज़ उनके द्वारा 10 दिन पहले ही तेलंगाना में खरीदी गई एक प्रॉपर्टी का व्यौरा भी है.

अवैध खनन मामले में फंसी यूपी की चर्चित आईएएस अफसर बी. चंद्रकला ने 27 दिसंबर को तेलंगाना के मलकाजगिरि में 22.50 लाख रुपये में खरीदी थी। उन्होंने इस प्रॉपर्टी के लिए कोई लोन नहीं लिया।

यह एक आवासीय प्लॉट

डीओपीटी में दिए जाने वाले अचल संपत्ति के ब्योरे में बी चंद्रकला ने इसका जिक्र किया है। यह एक आवासीय प्लॉट है। बताया जा रहा है कि अब चंद्रकला पर आय से अधिक संपत्ति मामले में भी शिकंजा कस सकता है।

एक ही प्रॉपर्टी का जिक्र

जनवरी, 2019 में भरे गए रिटर्न में बी. चंद्रकला ने सिर्फ एक ही प्रॉपर्टी का जिक्र किया है। जबकि पिछले सालों के दौरान फाइल रिटर्न में चंद्रकला ने जिन प्रॉपर्टियों का जिक्र किया था, उनका जिक्र 2019 के रिटर्न में नहीं किया गया है।

एक वरिष्ठ आईएएस अधिकारी के मुताबिक, रिटर्न फाइल करने के दौरान पिछली संपत्तियों का भी ब्योरा देना होता है। इसके अलावा, परिवार के पास मौजूद संपत्ति का भी ब्योरा देना होता है। भले ही पहले उस संपत्ति का ब्योरा दिया जा चुका हो।

चंद्रकला ने 2011 में जो अचल संपत्ति का ब्योरा दिया था। उसमें एक भी संपत्ति नहीं खरीदने का ब्योरा दिया गया था। वहीं 2012 में फाइल किए गए रिटर्न में चंद्रकला ने 10 लाख रुपये की एक जमीन की खरीद दिखाई थी।

यह जमीन उनके पति के नाम से खरीदी गई थी। 2013 में फाइल किए गए रिटर्न के मुताबिक चंद्रकला ने रंगारेड्डी जिले में 30 लाख रुपये का एक मकान खरीदा। इस मकान को खरीदने के लिए उन्होंने 23.50 लाख रुपये का लोन लिया था।

1
Back to top button