छत्तीसगढ़

रेत के नाम पर अवैध वसूली,आवास सहित अन्य जरूरत के लिए रेत कहां से लाये क्षेत्रवासी : पिंकी शिवराज शाह

आवास सहित अन्य जरूरत के लिए रेत कहां से लाये क्षेत्रवासी : पिंकी शिवराज शाह

नगरी।राजशेखर नायर

नगरी विकासखंड में रेत के वैध खदान नही होने के कारण शासकीय, अशासकीय, निर्माण कार्यों सहित प्रधानमंत्री आवास निर्माण व अन्य निर्माण कार्य के लिए लोग परेशान हो रहे हैं, वहीं स्थानीय प्रशासन के लोग आम लोगों को अवैध रेत ढुलाई के नाम से प्रताड़ित कर रहे हैं, अगर अवैध खनन के नाम पर प्रशासन कार्यवाही कर रही है तो शासन प्रशासन के लोग जरा यह बताने का कष्ट करें की नगरी विकासखंड में वैध रेत खदान कहां पर है।

महज 1000-1200 रु. में बिकने वाला एक ट्रेक्टर रेत 3500-4000 बिकने लगा है।भारतीय जनता पार्टी के शासन काल में हम लोगों ने कभी ऐसी स्थिति निर्मित होने नही दिया था।

रायल्टी बुक

रेत खदान ऐलाट नही होने की स्थिति में पंचायतों को रायल्टी बुक प्रदान कर लोगों को आसानी से रेत उपलब्ध कराने का काम किया, इससे शासन को रायल्टी भी प्राप्त हो रही थी और लोगों को आसानी से रेत भी उपलब्ध हो पा रही थी, लेकिन जब से कांग्रेस की शासन बनी है लोग रेत के नाम पर सिर्फ परेशान ही नही बल्कि प्रताडित भी हो रहे हैं,

वहीं विकास एवं जुमले बाजी की कहानी गढ़ने वाले लोग तमाशबिन बने हुए हैं, नगरी विकासखंड के लोग परेशान हैं, वहीं सत्ता में बैठे हुए लोग इसका निराकरण के लिए अब तक कोइ पहल नही कर सके। कुछ लोग इस विकासखंड को चारागाह बनाकर अवैध वसुली में लगे हुए हैं।

महानदी के रेत का दोहन पूरे प्रदेश के लोग कर रहे हैं, लेकिन महानदी के उद्गम स्थल सिहावा क्षेत्र के लोग रेत के नाम पर परेशान हो रहे हैं, क्या छत्तीसगढ़ में यही न्याय योजना चल रही है ?

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button