“माफ कीजिएगा”हमारा इरादा आपको परेशान करने का नहीं, किसानों का ये पर्चा वायरल

पिछली रात से ही सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा

नई दिल्ली। किसानों का एक बड़ा समूह जोकि देशभर से दिल्ली के रामलीला मैदान में जमा हुआ है. चिड़ियों के उठने से पहले उठा तो है, लेकिन वो हल लेकर खेतों में नहीं जा रहा है.

वो झंडे, तख़्तियां और पर्चे लेकर संसद की तरफ बढ़ रहा है. किसानों का यह समूह देश की संसद से मांग कर रहा है कि आप 20 दिनों का एक विशेष सत्र बुलाएं और किसानों से जुड़ी समस्याओं पर चर्चा करें. नियम बनाएं, कानून बनाएं. कुछ भी करें, हमें राहत दें.

इस वजह से किसानों ने दिल्ली वालों के नाम एक खुला पत्र जारी किया है जो पर्चे की शक्ल में हैं और पिछली रात से ही सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है.

इससे पहले कि हम आपको ये बताएं कि इस पर्चे में क्या लिखा हुआ है. कुछ याद करवाना ज़रूरी है. इसी साल मार्च में हज़ारों किसान पुणे से मुम्बई पैदल मार्च करके पहुंचे थे. मुम्बई में उन्हें विधानसभा भवन के पास पहुंचना था.

लेकिन जब किसानों को मालूम चला कि अगले दिन बच्चों की परीक्षाएं हैं तो उन्हें रात में ही चलने का फैसला किया. लगभग दो सौ किलोमीटर की पैदल यात्रा कर चुके हज़ारों किसान पूरी रात चले और मुम्बई में अपने लिए तय स्थान पर पहुंचे ताकि अगली सुबह जिन बच्चों को परीक्षा में शामिल होना है उन्हें कोई दिक्कत ना हो.

हां, तो अब उस पर्चे की बात जो दिल्ली में आ चुके किसानों ने दिल्ली वालों के लिए जारी किया है. पर्चे में सबसे पहले तो शहरी लोगों से माफ़ी मांगी गई है. लिखा गया है, ‘माफ़ कीजिए! हमारे इस मार्च से आपको परेशानी हुई होगी.’

पर्चे में आगे यह समझाने की कोशिश की गई है कि किसान किसी को परेशान करने की नियत से दिल्ली में दाख़िल नहीं हुए हैं. चूंकि वो खुद परेशान हैं इसलिए अपनी परेशानी सरकार को सुनाने-बताने यहां आए हैं.

1
Back to top button