भारतीय अर्थव्यवस्था को ट्रैक पर लाने के लिए IMF ने सुझाए तीन रास्ते

आईएमएफ में एशियन पैसिफिक विभाग के उप निदेशक केनेथ कांग ने कहा कि एशिया का परिदृश्य अच्छा है और ये मुश्किल सुधारों के साथ भारत को आगे ले जाने का महत्वपूर्ण अवसर है.

आईएमएफ ने सुझाव तीन रास्ते
इंटरनेशनल मोनेटरी फंड (आईएमएफ) ने भारत के लिए त्रिपक्षीय इंफ्रास्ट्रक्चर सुधार दृष्टिकोण अपनाने का सुझाव दिया है. इसमें कारपोरेट और बैंकिंग क्षेत्र को कमजोर हालत से बाहर निकालना, राजस्व संबंधी कदमों के माध्यम से वित्तीय एकीकरण को जारी रखना और लेबर और उत्पाद बाजार की क्षमता को बेहतर करने के सुधार शामिल हैं और मुश्किल सुधारों के साथ भारत को आगे ले जाने का महत्वपूर्ण अवसर है.

कांग ने एक प्रेस कांफ्रेंस में संवाददाताओं से क्या कहा?
कांग ने एक प्रेस कांफ्रेंस में संवाददाताओं से कहा की इंफ्रास्ट्रक्चर सुधारों के मामले में तीन नीतियों को प्राथमिकता देनी चाहिए.’ पहली प्राथमिकता कारपोरेट और बैंकिंग क्षेत्र की हालत को बेहतर करना है. इसके लिए नॉन परफार्मिंग एसेट (एनपीए) के समाधान को बढ़ाना, सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में कैपिटल सरप्लस का पुर्निनर्माण और बैंकों की टैक्स वसूली प्रणाली को बेहतर बनाना होगा. दूसरी प्राथमिकता भारत को राजस्व संबंधी कदम उठाकर अपने राजकोषीय एकीकरण की प्रक्रिया को जारी रखना चाहिए. साथ ही सब्सिडी के बोझ को भी कम करना चाहिए.

1
Back to top button