अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ चलाया गया महाभियोग

प्रतिनिधि सभा ने ट्रंप के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव पर अपनी मुहर लगाई

वॉशिंगटन: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग चलाया गया. अमेरिकी इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि दूसरी बार महाभियोग चलाया गया है. प्रतिनिधि सभा ने ट्रंप के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव पर अपनी मुहर लगा दी है.

महाभियोग प्रस्ताव के दौरान पक्ष में 232 और विपक्ष में 197 वोट पड़े. 10 रिपब्लिकन सांसदों ने भी महाभियोग के पक्ष में वोट दिया. अब 19 जनवरी को सीनेट में ये प्रस्ताव लाया जाएगा. इस महाभियोग प्रस्ताव में ट्रंप पर छह जनवरी को ‘राजद्रोह के लिए उकसाने’ का आरोप लगाया गया है.

सीनेट में महाभियोग प्रस्ताव पारित करने के लिए दो तिहाई सदस्यों के मतों की आवश्यकता होती है. अगर सीनेट में प्रस्ताव पास हो जाता है, तो ट्रंप को समय से पहले राष्ट्रपति पद छोड़ना होगा.

प्रतिनिधि सभा ने 18 दिसंबर 2019 को ट्रंप के खिलाफ महाभियोग के आरोप को पारित किया था. लेकिन रिपब्लिकन पार्टी के नियंत्रण वाले सीनेट ने फरवरी 2020 में उन्हें आरोपों से बरी कर दिया था. उस दौरान आरोप लगाए गए थे कि ट्रंप ने यूक्रेन के राष्ट्रपति पर दबाव डाला कि वे बाइडेन और उनके बेटे के खिलाफ भ्रष्टाचार के दावों की जांच करवाए.

व्हाइट हाउस ने महाभियोग प्रस्ताव को अमेरिका के इतिहास के बेहद शर्मनाक राजनीतिक घटनाक्रमों में से एक बताया गया है. अमेरिका के 243 साल के इतिहास में किसी भी राष्ट्रपति को महाभियोग के बाद पद से हटाया नहीं गया.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button