छत्तीसगढ़

बस्तर में वायरल ऑडियों के विरोध में पत्रकारों ने दिया सांकेतिक धरना

जगदलपुर : पत्रकारों को गोली मारने का वायरलेस संदेश जारी होने के बाद बस्तर के पत्रकार मामले को लेकर काफी गंभीर है। पत्रकारों मेें आक्रोश साफ देखा जा रहा है। गुरूवार 28 सितम्बर को बस्तर संभाग के पत्रकारों ने संभाग आयुक्त कार्यालय के समक्ष एक दिवसीय संकेतिक धरना प्रदर्शन किया। प्रदर्शन में शामिल होने बस्तर संभाग के सभी जिलों से पत्रकार पहुंचे थे। पत्रकारों ने एक स्वर में सबंधित अधिकारी पर कार्रवाई की मांग की है।
बड़ी संख्या में मौजूद पत्रकारों ने संभायुक्त दिलीप वासनिकर और आईजी बस्तर विवेकानंद सिन्हा हो ज्ञापन सौंपा है। राज्यपाल और मुख्यमंत्री के नाम दिए गए ज्ञापन में पत्रकारों ने वायरल अॅाडियों की जांच और उक्त अधिकारी पर कार्रवाई की मांग की है।

नश्तर पर चल रहा बस्तर का पत्रकार : संभागीय पत्रकार संघ के अध्यक्ष एस करीमउद्दीन ने कहा कि, बस्तर का पत्रकार नश्तर पर चल रहा है। उन्हें हर वक्त किसी न किसी खतरे का डर लगा रहता है। ऐसी स्थिति में पत्रकार काम करे तो कैसे ? उन्होंने कहा कि, एक माह के अंदर मामले की जांच पूरी नहीं हुई तो पत्रकार अगली रणनीति पर विचार करेगा।
बस्तर प्रेस क्लब के अध्यक्ष मनीष गुप्ता ने कहा कि, बस्तर में पत्रकारों की सुरक्षा बहुत जरूरी है। इस पूरे मामले की जांच और दोषियों पर कार्रवाई होनी चाहिए ताकि भविष्य में इस तरह की घटना दोबारा घटित न हो। पत्रकारों ने आयुक्त और आईजी बस्तर को जल्द से जल्द मामले की जांच कराने की अपील भी की है।

ये है पूरा मामला : कुछ दिन पूर्व बीजापुर जिले में एक ऑडियो टेप वाइरल हुआ था। इसमें किसी फोर्स के अधिकारी ने पत्रकारों के देखते ही गोली मारने के आदेश वायरलेस सेट में दिया था। इसके बाद से पत्रकारों में रोष व्याप्त है।

Related Articles

Leave a Reply