संसद में दोनों सदनों में पेगासस जासूसी, कृषि कानूनों और अन्‍य मुद्दों पर विपक्ष के विरोध के कारण आज भी गतिरोध बना रहा

सदन में कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस तथा डीएमके सदस्‍यों के लगातार विरोध के कारण सदन की कार्यवाही दिनभर के लिए स्‍थगित करनी पडी।

NEW DELHI: संसद में दोनों सदनों में पेगासस जासूसी, कृषि कानूनों और अन्‍य मुद्दों पर विपक्ष के विरोध के कारण आज भी गतिरोध बना रहा। इस कारण लोकसभा और राज्‍यसभा की कार्यवाही दिनभर के लिए स्‍थगित करनी पडी।

आज दिन के साढे तीन बजे जब लोकसभा की कार्यवाही दोबारा शुरू हुई तो हंगामे के बीच नारियल विकास बोर्ड संशोधन विधेयक 2021 पारित कर दिया गया।

सदन में कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस तथा डीएमके सदस्‍यों के लगातार विरोध के कारण सदन की कार्यवाही दिनभर के लिए स्‍थगित करनी पडी। इससे पहले शोर-शराबे के बीच ही राष्‍ट्रीय राजधानी क्षेत्र में वायु गुणवत्‍ता प्रबन्‍धन के लिए आयोग से संबंधित विधेयक पारित कर दिया गया।

लोकसभा अध्‍यक्ष ने भोजनावकाश से पहले के सत्र में विपक्ष के स्‍थगन प्रस्‍ताव को नामंजूर कर दिया, जिसके बाद कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस और वाम दलों के सदस्‍य इसके विरोध में नारेबाजी करते हुए सदन के बीचोंबीच आ गए।

इससे पहले भी विपक्षी सदस्‍य सदन के बीचोंबीच आकर विरोध जता रहे थे। शोर-शराबे के बीच ही अध्‍यक्ष ओम बिरला ने प्रश्‍नकाल को चलाने की हरसंभव कोशिश की लेकिन वे सफल नहीं हुए।

उधर राज्‍यसभा में भी इन्‍हीं मुद्दों पर विपक्षी सदस्‍यों का हंगामा जारी रहा। सदन की कार्यवाही दूसरे स्‍थगन के बाद जब करीब तीन बजे शुरू हुई तो विपक्षी सदस्‍य एक बार फिर सदन में शोर-शराबा करने लगे। हलांकि इस बीच, एयरपोर्ट आर्थिक नियामक प्राधिकरण संशोधन विधेयक पारित कर दिया गया।

सदन के उपसभापति हरिवंश ने लगातार सदस्‍यों से शांत रहने को कहा लेकिन विपक्षी सदस्‍यों पर इसका कोई असर नहीं हुआ। स्‍थगन के बाद सदन की कार्यवाही जब दोबारा शुरू हुई तब सभापति एम वेंकैया नायडु ने सदन को बताया कि सरकार किसानों के आंदोलन और बढती कीमतों के मुद्दे पर चर्चा करने को तैयार हो गई है।

हालांकि उन्‍होंने कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस वामदल और अन्‍य विपक्षी सदस्‍यों द्वारा उठाये गए जासूसी मामले सहित अन्‍य मुद्दों पर स्‍थगन प्रस्‍ताव को नामंजूर कर दिया।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button