छत्तीसगढ़

सूपेबेडा मामले में सरकार ने सदन में बोला झूठ : अमित जोगी

रायपुर : मरवाही विधायक अमित जोगी ने विधानसभा में स्वास्थ्य मंत्री अजय चंद्राकर से गरियाबंद जिले के देवभोग विकासखंड के सूपेबेडा गाँव में 2008 से अब तक हुई मृत्यु के संबंध में जानकारी चाही। साथ ही मौतों के कारण की भी जानकारी मांगी। लिखित जवाब में मंत्री चंद्राकर ने बताया कि वर्ष 2008 से 13 फरवरी 2018 तक सूपेबेडा गाँव में 107 लोगों की मृत्यु हुई है। इन सभी मौतों को मंत्री ने स्वाभाविक मौत बताया।

सरकार कर रही सदन को गुमराह: सरकार के जवाब पर प्रतिक्रिया देते हुए विधायक अमित जोगी ने कहा कि सरकार झूठ बोलकर सदन को गुमराह कर रही है और अपनी नाकामयाबी छुपा रही है। सच यह है कि किडनी रोग की वजह से सूपेबेडा में लोगों की मौतें हो रही हैं न कि ये मौतें स्वाभाविक हैं । सरकार इसका कारण पता लगाने में और मौतों के सिलसिले को रोकने में नाकामयाब है। यदि वास्तव में किडनी रोग से सूपेबेडा में मौतें नहीं हो रही हैं तो क्यों स्वास्थ्य मंत्री अजय चंद्राकर स्वयं जून 2017 में दिल्ली जाकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री श्री जे.पी. नड्डा से सूपेबेडा में किडनी बीमारी की रोकथाम के लिए केंद्र द्वारा शोध किये जाने का आग्रह करके आये थे (खबर संलग्न)।

यदि किसी की मौत किडनी रोग से नहीं हुई है तो क्यों 15 फरवरी 2018 को राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने सूपेबेडा मामले में केंद्र और राज्य सरकार को नोटिस जारी करके 4 सप्ताह में जवाब माँगा है। अमित जोगी ने कहा कि सरकार से लोगों को यह अपेक्षा है कि वह झूठ बोलकर अपनी असफलता छुपाने के बजाये लोगों की मूलभूत समस्याओं पर ध्यान दे।

advt

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.