cbsc पेपर लीक मामले में राहुल गाँधी ने कसा पीएम पर तंज कहा…

सीबीएसई पेपर लीक मामले में नए नए खुलासो के बाद अब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार (30 मार्च) को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को उन छात्रों एवं अभिभावकों के लिए दूसरी पुस्तक लिखने की सलाह दी हैं जिनकी जिदंगी परीक्षा पत्र लीक होने से ‘तबाह’ हो गयी है.

सीबीएसई पेपर लीक मामले में नए नए खुलासो के बाद अब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार (30 मार्च) को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को उन छात्रों एवं अभिभावकों के लिए दूसरी पुस्तक लिखने की सलाह दी हैं जिनकी जिदंगी परीक्षा पत्र लीक होने से ‘तबाह’ हो गयी है. राहुल ने शुक्रवार (30 मार्च) को ट्वीट कर प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधा और कहा, ‘‘प्रधानमंत्री ने छात्रों को परीक्षा के दौरान तनाव से राहत देने के बारे में शिक्षा देने के लिए एक पुस्तक ‘एग्जाम वॉरियर्स’ लिखी थी.’’

उन्होंने कहा, ‘‘अगला कदम : एग्जाम वॉरियर्स 2, छात्रों एवं अभिभावकों को परीक्षा पत्र लीक होने के कारण उनका जीवन तबाह होने के बाद उन्हें तनाव राहत के बारे में शिक्षा देने के लिए एक पुस्तक.’’ राहुल ने अपने इस ट्वीट के साथ प्रधानमंत्री मोदी की पुस्तक ‘एग्जाम वॉरियर्स’ तथा उनकी तस्वीर को भी टैग किया है.

वहीं दूसरी ओर सीबीएसई पेपर लीक मामले में कांग्रेस ने शुक्रवार (30 मार्च) को कहा कि वह इस मुद्दे को संसद में उठाएगी. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि पेपर लीक होना मानव संसाधन मंत्रालय की नाकामी को दिखात है. खड़गे ने कहा, ’28 लाख छात्रों के भविष्य को खतरे में डाला गया है. हम संसद में इस मुद्दे को उठाएंगे.’ वहीं दूसरी ओर कपिल सिब्बल ने कहा कि सिर्फ सीबीएसई ही पेपर लीक का मसला नहीं है, बल्कि एसएससी भी एक बहुत बड़ा मुद्दा है.

सिब्बल ने कहा, ‘सीबीएसई के साथ ही एसएससी पेपर लीक भी बहुत अहम मामला है, अगर सरकार अपनी गलतियों की जिम्मेदारी नहीं लेती, तो फिर इसके लिए किसे दोष दिया जाए?’ वहीं दूसरी ओर केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर के आवास के सामने सुरक्षा के लिहाज से धारा-144 लगा दी गई है. कुछ छात्र संगठनों ने भी सीबीएसई पेपर लीक मामले में प्रकाश जावड़केर से मुलाकात की.

दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने सीबीएसई का 10वीं कक्षा का गणित का और 12वीं कक्षा का इकॉनोमिक्स का पेपर लीक होने के संबंध में10 और लोगों से पूछताछ की और बोर्ड के परीक्षा नियंत्रक से ‘‘बातचीत’’ की. पुलिस अधिकारियों ने शुक्रवार (30 मार्च) को बताया कि सीबीएसई ने यह भी कहा है कि उसके अध्यक्ष को10 वीं कक्षा का गणित का पेपर लीक होने के बारे में परीक्षा से एक दिन पहले एक ई- मेल मिला था. दसवीं बोर्ड की गणित की परीक्षा 28 मार्च और बारहवीं बोर्ड की अर्थशास्त्र की परीक्षा 26 मार्च को हुई थी.

35 लोगों से पूछताछ
जांच से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि पुलिस ने मामले के संबंध में गुरुवार (29 मार्च) तक एक कोचिंग सेंटर के मालिक, 18 छात्रों और ट्यूशन पढ़ाने वाले कुछ शिक्षकों समेत 35 लोगों से पूछताछ की. उन्होंने बताया कि पुलिस ने गुरुवार को सीबीएसई के परीक्षा नियंत्रक से दो घंटे तक ‘‘बातचीत’’ की, ताकि परीक्षा कराने की प्रक्रिया समझी जा सके. अधिकारी ने बताया कि प्रश्न पत्र कैसे तैयार होता है, प्रश्न पत्र कहां रखे जाते हैं और विभिन्न परीक्षा केंद्रों तक उन्हें कैसे वितरित किया जाता है, इसके बारे में चर्चा की गई.

पेपर लीक मामले में 2 मामले दर्ज
अपराध शाखा के विशेष आयुक्त आर पी उपाध्याय और अपराध शाखा के संयुक्त पुलिस आयुक्त आलोक कुमार ने दिल्ली पुलिस आयुक्त अमूल्य पटनायक से बुधवार (28 मार्च) की जांच पर चर्चा की. दिल्ली पुलिस ने एक बयान जारी करके कहा कि सीबीएसई के क्षेत्रीय निदेशक की शिकायत पर उन्होंने दो मामले दर्ज किए. पहला मामला अर्थशास्त्र का पेपर लीक होने के संबंध में मंगलवार (27 मार्च) दर्ज किया था, वहीं 10वीं का पेपर लीक होने का मामला बुधवार (28 मार्च) को दर्ज किया गया.

ये मामले धोखाधड़ी (420), आपराधिक षडयंत्र (120बी) और आपराधिक विश्वासघात (406) के आरोप में दर्ज किए गए हैं. मामले की जांच के लिए विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन किया गया है जिसमें दो पुलिस उपायुक्त, चार सहायक पुलिस आयुक्त और पांच निरीक्षक शामिल हैं.

advt
Back to top button